जब रेड लाइट पार करने पर सिपाई ने काटा DGP का चालान

0
यातायात नियम के उल्लंघन में रविवार को सिटी पेट्रोल यूनिट (सीपीयू) ने पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) अनिल रतूड़ी की निजी कार का चालान कर दिया। डीजीपी की कार दिलाराम चौक पर ट्रैफिक सिग्नल की लाइन क्रास कर गई थी।
वहां तैनात सीपीयू कर्मियों ने कार की वीडियोग्राफी कर उसे रोक लिया। कार में सवार डीजीपी को देख सीपीयू कर्मियों के पैरों तले जमीन खिसक गई, लेकिन डीजीपी ने गलती स्वीकारते हुए सीपीयू कर्मियों की पीठ थपथपाई और सौ रुपये के नगद चालान का भुगतान किया। इसके बाद पुलिस महकमे के साथ ही सोशल मीडिया पर भी डीजीपी की सादगी की तारीफ हो रही है।

पुलिस सूत्रों के मुताबिक, डीजीपी अनिल रतूड़ी रविवार दोपहर सेंट्रो कार से गुजर रहे थे। करीब सवा दो बजे उनकी कार दिलाराम चौक पहुंची। ट्रैफिक सिग्नल पर कार चालक ब्रेक नहीं लगा पाया और डीजीपी की कार सफेद लाइन क्रास कर गई।

डीजीपी को देख हुए हैरान

सिग्नल तोड़ता देख वहां तैनात सीपीयू कर्मी अशोक डंगवाल (एसआई) और अर्जुन सिंह (सिपाही) वीडियोग्राफी करने लगे। डीजीपी पीछे बैठे थे और उनके चालक ने भी कोई प्रतिक्रिया नहीं की। सीपीयू कर्मियों ने वीडियोग्राफी के बाद चालान बुक निकाल ली।

सीपीयू कर्मियों को मुस्तैदी से ड्यूटी करते देख डीजीपी कार से उतरे। डीजीपी को देख सीपीयू कर्मी हैरान रह गए और सकपका गए। लेकिन डीजीपी ने सतर्कता से ड्यूटी करने पर उन्हें शाबाशी दी।

सीपीयू के एमवी एक्ट की धारा 177 में चालान काटने पर डीजीपी ने 100 रुपये नगद भुगतान किया। इसके बाद डीजीपी वहां से निकल गए। डीजीपी की कार का चालान पुलिस महकमे में चर्चाओं में रहा। जिला स्तर पर पुलिस अधिकारी इसकी पुष्टि करने से बचते रहे, हालांकि डीजीपी के पीआरओ ने इसकी पुष्टि की है।

Loading...