रूसी पर्यटक के साथ आखिर क्या हुआ कि देवभूमि में सब्जियां उगाने लगा

0

कई साल पहले उत्तराखंड घूमने आए एक रूसी पर्यटक के साथ कुछ ऐसा हुआ कि उसे सब्जियां उगाने के लिए मजबूर होना पड़ा। हालांकि पकड़े जाने पर पुलिस ने रूसी पर्यटक को गिरफ्तार कर लिया है। उस पर बगैर वीजा और पासपोर्ट के भारते में रहने का आरोप है।

रूस से 1991 में घूमने के लिए आया था भारत 

पुलिस के अनुसार 1991 में रूसी मूल का सग्वेर्ज रज्जाजेव भारत घूमने आया था। उसके पास वर्ष 2003 तक का वैध वीजा और पासपोर्ट था। पहले रूसी नागरिक भारत के वृंदावन और हिमाचल प्रदेश में रहा। 2003 में उसका वीजा और पासपोर्ट की वैधता समाप्त हो गई। हिमाचल प्रदेश में घूमने के दौरान उसकी मुलाकात वहीं निवास रह रहे दूसरे रूसी नागरिक से हुई। रज्जाजेव ने अपनी पासपोर्ट की अवधि खत्म होने के बारे में उसे बताया। दूसरे रूसी नागरिक ने रज्जावेज को पासपोर्ट और वीजा बनाने वाली एक अमेरिकी संस्था के बारे में बताया। इस पर रज्जावेज ने ऑनलाइन आवेदन किया और अपना पासपोर्ट हासिल कर लिया। इसके बाद यह रूसी नागरिक पिछले 14 वर्षों से भारत में घूम रहा था।

ग्रामीणों की छानियों में रहकर सब्जियों उगाने लगा

कुछ समय पहले वह डामटा पहुंचा। यहां आमदनी के लिए यमुना नदी के किनारे ग्रामीणों की छानियों में रहकर सब्जी उगाने लगा। एलआईयू को जब इसकी सूचना मिली तो उन्होंने पुलिस को साथ लेकर इसे हिरासत में लिया और कागजों की पड़ताल के लिए उत्तरकाशी ले आई। अभिसूचना इकाई की ओर से रूसी नागरिक रज्जावेज के कागजों की पड़ताल की गई। इसमें पाया गया कि जो वीजा और पासपोर्ट रूसी नागरिक के पास है वह अवैध है।  इस तरह से पासपोर्ट को भारत सरकार की मान्यता नहीं है। इस पर रूसी नागरिक के खिलाफ विदेशी एक्ट में थाना कोतवाली में मामला दर्ज किया गया। पुलिस की ओर से आगे की कार्यवाही की जा रही है।

Loading...