देखे वीडियो :-अपने ही अब्बा से यौन शोषण की शिकार लड़की ने बताय अपना दर्द!

0

इन्टरनेट पर यौन शोषण के मामले उठाने वाले लोग तो बहुत हैं लेकिन अब ये एक सशक्त माध्यम बन गया है जिसके अनुसार हम यह कह सकते हैं की इन्टरनेट ने एक बहुत ही सशक्त माध्यम बनाया है जिसके अंतर्गत अब यह बात लोगों को मालूम पड रही है की इस देश में किस प्रकार से हिलाओं की आवाज़ को दबाने का जो माहौल बनाया गया था उसको अब #MeToo जैसे अभियान चलाकर और भी बड़ा बनने की कवायद चल रही है अब.
इंटरनेट पर लड़की के यौन शोषण से जुड़े अनुभव का वीडियो अब बहुत ही तेजी से वायरल हो रहा है.वायरल वीडियो में पीड़ित ने कविता के जरिए अपने दर्द को बयां किया है जिसको आप सभी को एकबात सुनना चाहिए.पीड़ित ने बताया कि कैसे वो अपने ही परिवार के लोगों द्वारा हवस का शिकार बनाई गयी है. दरअसल मी-टू कैंपेन (#MeToo campaign) दुनियाभर में उन सभी महिला और पुरुषों को एक मंच मुहैया कराता है जिन्होंने अपने ही परिवार या अपने ही जानकारों या किसी समाज के एक असामाजिक तत्व द्वारा प्रताड़ित की गयी हैं.

वह अपनी आपबीती को बयां करना चाहती हैं जिसको ये मच एक अवसर प्रदान करता है.उन्हीं लोगों में से एक हैं आफरीन खान, जिन्होंने इस मंच के जरिए खुद पर हुए जुल्म और अत्याचार की कहानी को बयां किया है। उन्होंने अपनी कविता को ‘क्या याद है आपको?’ नाम दिया है। इसे यूट्यूब पर ‘Tape A Tale’ की यूजर आईडी से शेयर किया गया है, जिसे अबतक तीन लाख से ज्यादा लोग देख चुके हैं।इस कविता के ज़रिये आफरीन कहती हैं:

‘‘सलाम अब्बा! कैसे हैं आप? क्या हुआ पहचाना नहीं आपने? मैं आपकी बेटी हूं। आलिया…कुछ याद आया? कुछ साल पहले तक आप अपने जायज बीवी-बच्चों से फुरसत ले हम मां-बेटी के गरीब खाने पर आया करते थे। मेरे लिए गुब्बारे खरीदने की फुर्सत नहीं थी शायद आपको, इसलिए कुछ रुपए देकर आप अपने बाप होने का फर्ज पूरा कर देते थे। क्या आपको याद है आप अम्मी से अक्सर कहा करते थे इस लड़की नाम आफरीन गलत रख दिया,

वीडियो यहाँ देखे :-

इसका नाम तो आलिया होना चाहिए था।मैं आपको अपना हीरो समझती थी। लेकिन क्या आपको याद है आप तीन बार तलाक कहकर इस बेबुनियादी रिश्ते से निकल गए थे। अम्मी ने भी नई शादी कर ली और नए अब्बा बहुत अच्छे थे। मुझे रोज चॉकलेट देते थे। लेकिन मैं तो आपको याद करती थी, क्योंकि आप मेरे हीरो थे। लेकिन आपको क्या याद है अम्मी मुझे नए अब्बा के साथ अकेला छोड़ किसी काम से लखनऊ चली गई थीं। लेकिन वो नया अब्बा मच्छरदानी उठाकर हल्के से मेरे बिस्तर में घुस गया था।’’

आफरीन की यह कहानी बताती है की हमारे समाज में अब लोगों का भरोसा किस प्रकार लगातार टूटता जा रहा है और इसकी वजह चाहें जो भी लेकिन यह बात तो तय है की एक स्वस्थ समाज के लिए यह बात बिलकुल भी सही नहीं हैं.

Loading...