VIDEO: वित्त मंत्री प्रकाश पंत ने बताया, उत्तराखंड पर 45 हजार करोड़ का कर्ज

0

देहरादून: प्रदेश के वित्त मंत्री प्रकाश पंत ने कहा है कि राज्य की खस्ता हाल माली हालत को चुनौती के रूप में लिया जा रहा है। मौजूदा समय में प्रदेश पर 45 हजार करोड़ रुपये का कर्ज है। इसको चुकाने में 12 से 13 सौ करोड़ रुपये के बीच प्रतिवर्ष भुगतान हो रहा है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में 39 हजार रुपये सालाना परिव्यय है, जबकि आमदनी सात हजार एक सौ करोड़ है। काबीना मंत्री पंत रविवार को नैनीताल क्लब में पत्रकारों से वार्ता कर रहे थे[ads1]उन्होंने कहा कि राजस्व घाटे को दूर करने के लिए आर्थिक संसाधन बढ़ाए जा रहे हैं, लेकिन इसमें जनता पर भार नहीं डाला जाएगा। उन्होंने बताया कि बगैर टैक्स चुकाए कारोबार पर प्रभावी नियंत्रण लगाया जा रहा है। पिछले कुछ दिनों में वाणिज्यकर विभाग ने एक करोड़ 71 लाख रुपया वसूला है। प्रदेश में प्रवेश कर रहे लारी चालान की नई व्यवस्था की गई है। स्वमूल्यांकन की व्यवस्था के तहत चार हजार 365 व्यापारियों ने इसका लाभ उठाया है। केवल 24 मामले पकड़े गए हैं इनसे 18 लाख रुपया जुर्माना वसूला है। उन्होंने कहा कि वाह्य साहतित और केंद्र सहायतिक योजनाओं पर फोकस किया जाएगा।[ads2]पंत ने कहा कि सरकार आबकारी को आय का प्रमुख स्रोत नहीं मानती है। इसके लिए न्यायालय, जनभावना व स्वास्थ्य को ध्यान में रखकर मई से आबकारी नीति सामने आएगी। उन्होंने कहा कि 532 दुकानों में से 300 चल रही हैं। गत वर्ष 2100 करोड़ के तारगेट में तीन सौ करोड़ का घाटा हुआ है। खनन पर उन्होंने कहा कि प्रदेश में 8 से 9 सौ करोड़ रुपये का नुकसान हो रहा है। सरकार पारदर्शी खनन नीति ला रही है। पेयजल के लिए नई जलनीति शीघ्र ही जनता के बीच होगी।

Loading...