स्कूली बच्चे ढोते मिली उत्तराखंड DGP की गाड़ी, पुलिस विभाग में मचा हड़कम्प

0
बता दें कि कि कुशीनगर में हुए स्कूल बस हादसे के बाद सुप्रीम कोर्ट ने सभी स्कूल बसों के परीक्षण के साथ चेकिंग करने के निर्देश दिए हैं। जिसके चलते मंगलवार की दोपहर आरटीओ विभाग और स्थानीय पुलिस स्कूल वाहनों की चेकिंग कर रही थी। इस दौरान बजाज इंटरनेशनल स्कूल के बच्च के लेकर जा रही टाटा सूमो गाड़ी को रोककर चेकिंग तो आरटीओ और पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया।
नेशनल रजिस्ट्रेशन ऐप पर गाडी का नंबर डाला तो सभी हैरान रह गए। गाड़ी पर पुलिस का लोगो तो बना ही था साथ ही गाड़ी का रजिस्ट्रेशन भी डीजीपी उत्तराखंड के नाम पर मिला। आनन फानन में अधिकारियों ने गाड़ी और चालक को कब्जे में ले लिया।चालक ने बताया कि उसने गाड़ी को उत्तराखंड के देहरादून से नीलामी में कबाड़ के हिसाब से खरीदा था। लेकिन उसने न तो उसे अपने नाम ट्रांसफर कराया और न ही उसका फिटनेस कराया था। इतना ही नहीं वह गाड़ी को बिना रजिस्ट्रेशन और अनुमति के स्कूली बच्चों को ढो रहा था।यात्रीकृत कब्जे यात्री कृत अधिकारी राकेश मोहन ने बताया कि हो सकता यह गाड़ी कबाड़ में बेची गई होगी। खरीददार ने बिना रजिस्ट्रेशन के ही गाडी को संचालित कर दिया। चालान किये जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि चालन तो मौके पर पाए जाने वाले चालक के नाम ही लिखा गया है।

जबकि पंजीकृत वाहन स्वामी के नाम पर डीजीपी उत्तराखण्ड का नाम लिखा गया है। यात्रीकृत अधिकारी राकेश मोहन ने गाड़ी को पकड़ कर न सिर्फ सील कर दिया बल्कि कई धाराओं के तहत चालान कर कार्रवाई की है।  जिसके चलते सभी धाराओं के तहत 50 हजार रूपये का चालान किया गया है।

Loading...