सरकारी-प्राइवेट स्कूलों के छात्रों के लिए राहत की खबर, महंगी किताबों से निजात दिलाने की तैयारी

0

उत्तराखंड के सरकारी और प्राइवेट स्कूलों में पढ़ने वाले लाखों छात्र-छात्राओं के लिए राहत की खबर है। नए शिक्षा सत्र से सरकारी और प्राइवेट स्कूल मनमर्जी से सहायक पुस्तकें नहीं लगा सकेंगे।

सरकारी और सीबीएसई बोर्ड के स्कूलों में 2018-19 से एससीईआरटी की किताबें लागू करने के बाद अब सहायक पुस्तकों को भी सस्ती दरों पर एक समान रूप से स्कूलों में लगाए जाने की तैयारी है। किताबों के चयन के लिए समिति का गठन कर दिया गया है।

प्रदेश के सरकारी और प्राइवेट स्कूलों में छात्र और उनके अभिभावक महंगी किताबों से खासे परेशान हैं। कुछ किताबों की कीमतें बहुत अधिक हैं। शिक्षा विभाग को इसकी शिकायतें मिल रही थीं। यही वजह रही कि सरकार ने वर्ष 2018-19 में स्कूलों में एनसीईआरटी की किताबें लागू कराने का निर्णय लिया।

Loading...