पद की गरिमा का ख्याल रखें पीएम

0

पीएम मोदी ने रविवार को फतेहपुर में एक जनसभा को संबोधित करते हुए उत्तर प्रदेश की समाजवादी पार्टी सरकार पर जमकर निशाना साधा। मोदी ने सबका साथ सबका विकास का मतलब समझाते हुए कहा कि सबको उसका हक मिलना चाहिए, चाहे वह किसी भी माता की कोख से पैदा हुआ हो। उन्होंने कहा, “गांव में कब्रिस्तान बनता है तो श्मशान भी बनना चाहिए। रमजान में बिजली मिलती है तो दीवाली में भी मिलनी चाहिए। होली में बिजली मिलती है तो ईद पर भी मिलनी चाहिए। कोई भेदभाव नहीं होना चाहिए। किसी के साथ अन्याय नहीं होना चाहिए। धर्म और जाति के आधार पर बिल्कुल नहीं।” पीएम मोदी के इस बयान की सपा और कांग्रेस ने आलोचना की है।

कांग्रेस नेता और राज्यसभा सांसद आनंद शर्मा ने पीएम मोदी के बयान की निंदा करते हुए कहा कि पीएम को अपने पद की गरिमा का ध्यान रखना चाहिए। इस तरह के गलत और गैर-जिम्मेदाराना बयान नहीं देने चाहिए। शर्मा ने चुनाव आयोग से भी पीएम के बयान पर संज्ञान लेने का आग्रह किया है। वहीं, कांग्रेस नेता सलमान सोज ने भी ट्वीट कर प्रधानमंत्री के बयान की आलोचना की। सोज ने लिखा, ‘यह आदमी गांधी के भारत का प्रधानमंत्री कैसे बन गया? कब्रिस्तान और श्मशान से पहले हमारे पास खेल मैदान होना चाहिए जहां हिंदू, मुस्लिम और दूसरे धर्मों के बच्चे एक साथ खेल सकें।

समाजवादी पार्टी की प्रवक्ता जूही सिंह ने कहा कि पीएम ने फतेहपुर रैली में जिस तरह की भाषा का इस्तेमाल किया है, हम उसकी निंदा करते हैं। उन्होंने कहा कि पार्टी इसकी शिकायत चुनाव आयोग से भी करेगी। तीसरे चरण के मतदान के बाद कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि भाजपा हार रही है। इसलिए प्रधानमंत्री इस तरह के गैर जिम्मेदार आरोप लगा रहे हैं। पांच राज्यों में चुनाव हो रहे हैं और पांचों जगह भाजपा बुरी तरह से हार रही है।

Loading...