उत्‍तराखंड: नई सरकार आते ही सेटिंग का खेल शुरू

0
देहरादून: प्रदेश में मंत्रिमंडल का गठन होने के साथ ही अहम ओहदों को पाने के लिए सेटिंग का खेल शुरू हो गया है। इसके लिए अफसरशाही ने जुगत भिड़ानी भी शुरू कर दी है। इसके लिए नेताओं से पुराने संबंध निकाले जा रहे हैं। जो मंत्री नए हैं, उनसे संबंध बनाने के लिए अब रास्ते तलाश किए जा रहे हैं।
प्रदेश में नई सरकार आने के साथ ही अफसरशाही में फेरबदल तय है। माना जा रहा है कि नई सरकार शासन से लेकर जिला स्तर तक बड़े पैमाने में फेरबदल करेगी। इन चर्चाओं के बीच पहले से ही अहम पदों पर तैनात अधिकारी अपनी कुर्सी बचाने के जुगत में लगे हैं तो वहीं कांग्रेस सरकार में साइड लाइन किए गए अधिकारी अब नई उम्मीद पाले हैं। अब सबकी नजरें शासन व प्रशासन के अहम पदों पर टिकी हुई हैं।
[ads1][ads1]
इसके लिए अपने पुराने संबंध खोजे जा रहे हैं। भाजपा सरकार के समय मंत्रियों के साथ जुड़े अधिकारी-कर्मचारी फिर से इनके दरवाजों पर दस्तक देने लगे हैं। नमस्कार व राम-राम के बहाने अपने चेहरे दिखाकर पुरानी यादों को ताजा करने का प्रयास किया जा रहा है। वहीं, कई अधिकारी अब संघ व भाजपा में भी प्रभावशाली नेताओं से करीबी पाने को संबंध खोज रहे हैं।
इसके लिए अपने परिचित पुराने नामों के साथ ही छुटभैये नेताओं से भी संपर्क साधा जा रहा है। कोशिश यह कि बस किसी तरह एक बार नेताजी से मुलाकात हो जाए। ऐसे अधिकारियों को सुबह से देर रात नेताओं के घरों के चक्कर काटते देखा जा सकता है। वहीं, विभागीय अधिकारियों की नजरें अब मंत्रियों को मिलने वाले पोर्टफोलियो पर भी टिकी हुई हैं।
कारण यह कि इससे मंत्री का कद भी तय होना है। चूंकि अधिकारियों का मकसद अपने मंत्रालय से अधिक होता है इसलिए फिलहाल मंत्रालयों के वितरण का इंतजार किया जा रहा है ताकि इसी हिसाब से अपने संपर्क सूत्रों का इस्तेमाल किया जा सके
[ads1][ads1]

 

Loading...