कबाड़ में बेचनी पड़ सकती है आपकी डिस्काउंट में खरीदी गाड़ी !

0

ऑटो कंपनियों के ऑफर का लाभ लेने शहर के वाहन प्रेमी तपती धूप में खड़े रहे। लोग ऑटो शोरूम के चक्कर लगाते रहे। पहले दिन की भीड़ को देखते हुए ज्यादातर वाहन विक्रेताओं ने शोरूम के शटर बंद रखे। प्रभात पेट्रोल पम्प …

नई दिल्ली : ऑटो कंपनियों के ऑफर का लाभ लेने शहर के वाहन प्रेमी तपती धूप में खड़े रहे। लोग ऑटो शोरूम के चक्कर लगाते रहे। पहले दिन की भीड़ को देखते हुए ज्यादातर वाहन विक्रेताओं ने शोरूम के शटर बंद रखे। प्रभात पेट्रोल पम्प चौराहे पर कुछ समय तक भीड़ इतनी बढ़ गई कि पुलिस को मोर्चा संभालना पड़ा। एक तरफ जहां लोग गाड़ियां खरीदने के लिए उतावले थे, तो वहीं दूसरी ओर कम्पनियों की कोशिश थी कि ज्यादा से ज्यादा गाड़ियों की बिक्री हो सके। [ads1]
आपको बता दें कि पूरी ऑटो इंडस्ट्री में सुप्रीम कोर्ट के बीएस-4 को लेकर दिए गए फैसले के बाद से ही हाहाकार मचा हुआ है। फैसले से पहले कंपनियों को उम्मीद थी कि उन्हें कोर्ट से कुछ वक्त मिल जाएगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। अब कम्पनियां पुराना माल खपाने को लेकर परेशान हो रही हैं।
सूत्रों की मानें तो अभी 9 लाख रुपए की इन्वेंट्री पूरी इंडस्ट्री में अभी भी बची हुई है। अब इस मामल को खपाने के लिए कम्पनियों के पास दो ही रास्ते हैं या तो वा सारा का सारा माल निर्यात कर दें या फिर उन्हें बीएस-4 स्टैण्डर्ड के हिसाब से अपग्रेड कर दे।
लेकिन अपग्रेड करने में समस्या ये है कि उन्हें इसके लिए सबसे ज्यादा ट्रांसपोर्टेशन के लिए पैसा खर्च करना होगा, क्योंकि डीलर्स के पास से दोबारा सारे वाहनों को प्लान्ट तक लाना होगा, जो कि काफी महंगा पड़ेगा। आखिर रास्ता यही है कि वे अपने व्हीकल्स को सस्ते दामों पर ग्राहकों को बेच दें। इसीलिए कम्पनियों ने आखिरी मौके के तौर पर अपने ग्राहकों को 22 हजार तक का डिस्काउंट देने का ऑफर दिया है।[ads1]
देखिये, आज का Special video Song
1 अप्रैल के बाद कम्पनियों के लिए कबाड़ हैं गाड़ियों
आपको बता दें कि माननीय सुप्रीम कोर्ट ने बीएस-3 स्टैण्डर्ड वाले वाहनों की बिक्री और रजिस्ट्रेशन पर 1 अप्रैल के बाद रोक लगा दी है। फैसले के लागू होते ही सबसे ज्यादा असर दोपहिया व कमर्शल वाहनों पर पड़ा है। 9 लाख वाहनों, यानी लगभग 12,000 करोड़ के नुकसान में सबसे ज्यादा संख्या दोपहिया वाहनों व कमर्शल वीइकल्स की है।
बड़े ऑटो निर्माता जैसे हीरो मोटोकॉर्प, होंडा मोटरसाइकल्स ऐवं स्कूटर्स, अशोक लेलंड, महिंद्रा ऐंड महिंद्रा जैसे प्लेयर्स खास तौर पर प्रभावित होने वाले हैं। 9 लाख टू वीलर्स में से टॉप टू वीलर कंपनी हीरो व होंडा के 5.22 लाख टू वीलर्स हैं। ज्यादातर ऑटो कंपनियों ने बंपर डिस्काउंट्स देने भी शुरू कर दिए हैं।
भोपाल में शोरूम्स पर लगी रही भारी भीड़[ads1]
देश में बीएस-3 वाहनों पर 1 अप्रैल से प्रतिबंध लग रहा है। इसके चलते ऑटो कंपनियों ने अपने ग्राहकों को ऑफर का लाभ देकर वाहन बिकवाए। डीलर्स ने भी इस छूट का फायदा ग्राहकों को दिया। 30 मार्च को सुबह से लेकर दोपहर तक वाहनों की जबर्दस्त बिक्री हुई।
हालात यह हो गए कि शाम होते-होते तक स्टॉक खत्म हो गया। अगले दिन भी नया वाहन खरीदने के लिए लोग मय दस्तावेज के घरों से निकले लेकिन उन्हें निराशा लगी। सुबह उन्हीं लोगों को कुछ समय तक वाहन उपलब्ध कराए गए जिन्होंने एक दिन पहले ही वाहन की बुकिंग कर दी थी। वाहन बिकते देख कुछ लोग उत्तेजित हो गए। स्थिति बिगड़ती देख कई ऑटो शोरूम के शटर गिर गए।
सर्विसिंग प्रभावित
अपने वाहनों की सर्विसिंग कराने वर्कशॉप में पहुंचे ग्राहकों को बैरंग लौटना पड़ा। कई लोगों ने इस पर अपनी नाराजगी भी व्यक्त की। शोरूमों पर उपलब्ध स्टॉफ ने उन्हें अगले दिन आने का कहकर चलता कर दिया।

Loading...