स्टोन क्रेशर फर्जी तो रवन्ने तो फर्जी ही होंगे

0

IPL देखते हुए आज 80 के दशक के आखिर दौर मेँ वेस्ट इंडीज के एक दायें हाथ के फ़ास्ट बॉलर पैट्रिक पैटरसन यूँ ही याद आ गए.. [ads1][ads1]भले विकेट कम लिए पर रफ़्तार भौत तेज़ थी भाई उसकी..खैर..
इधर उच्चतम न्यायालय का आदेश था कि दून की वादी मेँ स्टोन क्रशर नहीं लग सकता, फिर भी हरद्वार देरादून के बीच एक तप्पड़ मेँ धड़ल्ले से चल रहा है, और तो और इसके रवन्ने भी ज़ारी हो रहे हैं ज़ाहिर है इस फर्ज़ीबाड़े को टॉप लेबल से संजीवनी मिल रही होगी..[ads1]

वरिष्ठ पत्रकार : अजय रावत 

Loading...