मन्दिरों में चोरी की घटना को अजाम देने वाले शातिर चोर को पुलिस ने किया गिरफ्तार

0
 उत्तराखंड:  उत्तराखंड को देवों की भूमि अर्थात देवभूमि माना गया है न केवल माना गया है, बल्कि यहाँ की हर भूमि पर देवगण बसते हैं ऐसा शास्त्रों में वर्णित है, साथ ही शास्त्रों में लिखा गया है कि कलियुग का मानव, भगवान अर्थात देवी-देवताओं को न मानकर स्वयं को उनका स्वामी मान बैठेगा इसी की बानगी जनपद रुद्रप्रयाग में देखने को मिली जब दिनांक 14-07-2017 को बसुकेदार स्थित स्थानीय मन्दिर पुजारी श्री अवधूत गिरी द्वारा बताया गया कि बसुकेदार मन्दिर से अज्ञात चोरों द्वारा अष्टधातु की शिव परिवार, शिव मूर्ति, नन्दी मूर्ति,नन्दीश्वर मूर्ति व अन्य मूर्तियाँ चोरी कर दी गयी हैं, जिस पर उनकी तहरीर के आधार पर थाना अगस्त्यमुनि में मु0अ0सं0 37/2017 धारा 380 भा0द0वि0 पंजीकृत करते हुए विवेचनात्मक कार्यवाही अमल में लायी गयी, दौराने विवेचना थाना अगस्त्यमुनि पुलिस द्वारा तत्परता एवं लगन के साथ सुरागरस्सी व पतारस्सी के माध्यम से कल दिनांक 15-07-2017 को सुरेन्द्र लाल पुत्र श्री बीरू लाल निवासी ग्राम जवाड़ी, थाना व जिला रूद्रप्रयाग को गिरफ्तार करते हुए उसके कब्जे से चोरी की गई मूर्तियों व तथा पूर्व में इसी मन्दिर से चोरी की गयी अन्य छोटी-छोटी मूर्तियाँ बरामद की गयी तथा उसकी ही निशान देही पर पूर्व में चामुन्डा मन्दिर संगम बाजार रूद्रप्रयाग में हुई चोरी की घटना के सम्बन्ध में कोतवाली रुद्रप्रयाग में दर्ज मु0अ0सं0 16/2017 धारा 457/380 भा0द0वि0 दिनांक 12-01-2017 से सम्बन्धित चोरी किये गये छत्र को भी बरामद किया गया, इस प्रकार से जनपद अगस्त्यमुनि पुलिस द्वारा भगवान से भी भयभीत न होने वाले कलियुगी शातिर चोर को गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस द्वारा की गयी इस गिरफ्तारी पर स्थानीय लोगों, देवी देवताओं में असीम श्रद्धा रखने वाले भक्तजनों व स्थानीय मीडिया में अत्यंत खुशी का संचार हुआ है।
Loading...