पूर्वमुख्यमंत्री हरीश रावत जी आपसे हमारे कुछ सवाल हैं.

    0

    पूर्वमुख्यमंत्री हरीश रावत जी आपसे हमारे कुछ सवाल हैं. क्या आप अपनी पार्टी के विधायकों से एक एलान करवा सकते हो

    अपने कार्यकाल में बेरोजगारों से धोखा करने और आज उनका हितैषी बनने वाले पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत से कुछ सवाल…

    माननीय हरीश रावत जी नमस्कार..!
    आपने विधायकों के वेतन भत्तों में हुई बढ़ोत्तरी के त्रिवेंद्र सरकार के फैसले की आलोचना करते हुए इसे प्रदेश के बेरोजगार युवाओं, उपनल कर्मियों और अन्य कांट्रेक्ट पर नौकरी कर रहे युवाओं का अपमान बताया है. आपने इसे बेरोजगारों के जले पर नमक छिड़कने वाला निर्णय बताया है. साथ ही आपने कल बेरोजगारों पर हुए लाठीचार्ज की भी निंदा की है.
    आपकी इन जनपक्षधर बातों को सुन कर हमें हंसी आती है.
    रावत जी, माना कि जनता की याददाश्त कमजोर होती है मगर इतनी भी नहीं कि आपके राज का हर ‘करम’ जनता भूल गई होगी.

    आपसे हमारे कुछ सवाल हैं.

    अपने मुख्यमंत्रित्व काल में आपने बेरोजगारों को रोजगार देने के लिए क्या किया ?
    तीस हजार नौकरियां निकालने का वादा करने के बाद आपने कितनी नौकरियां निकालीं ?

    उपनल और अन्य संविदा कर्मियों की स्थाई नियुक्ति की मांग पर क्या आपने ये नहीं कहा कि, पक्की नौकरी के लिए आंदोलन कर रहे लोग इस मुगालते में न रहें कि उन सबको सरकारी नौकरी मिल जाएगी।

    आपके कार्यकाल के दौरान सरकार की गलत नीतियों का विरोध करने वाले आंदोलनकारियों पर लाठीचार्ज क्या आपके कार्यकाल में नहीं हुए ?
    अल्मोड़ा में पूंजीपति जिंदल को प्रदेश की बेशकीमती जमीन दिए जाने का विरोध करने वाले पीसी तिवारी और उनके साथियों को क्या जेल में नहीं डाला गया ?
    देहरादून में प्रेसक्लब के बाहर प्रदर्शन कर रहे पत्रकारों को नहीं पिटवाया गया ?
    अपनी सरकार को बचाने के लिए जनहित को ताक पर रखते हुए मंत्री विधायकों की हर ‘डिमांड’ को पूरा करने की बात क्या आपने नहीं स्वीकारी ?
    जिस गैरसैंण सत्र के बहाने आज आप भाजपा सरकार को घेर रहे हो, उस गैरसैंण के साथ क्या आपने भी ‘छल’ नहीं किया ?
    और आखिरी सवाल, विधायकों के वेतन-भत्तों में बढ़ोत्तरी को बेरोजगार युवाओं का अपमान बताने वाले आप, क्या अपनी पार्टी के विधायकों से बढ़ा हुआ वेतन नहीं लेने का ऐलान करवा सकते हो ?
    अगर नहीं तो फिर क्या फर्क है आपकी और मौजूदा मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की सरकार में ?

    Loading...