गोमुख के पास भागीरथी नदी पर नहीं बनी है कोई झील

0

गोमुख ग्लेशियर के पास भागीरथी नदी पर भूस्खलन की वजह से कोई झील नहीं बनी है। भारत-चीन सीमा के नजदीक भूस्खलन की सूचना के बाद जायजा लेने पहुंची उत्तराखंड सरकार की टीम ने अपनी रिपोर्ट में यह जानकारी दी है।

एसआईबी ने गोमुख ग्लेशियर के पास भूस्खलन की वजह से भागीरथी नदी पर झील बनने की सूचना दी थी। इस पर राज्य सरकार ने उस क्षेत्र का जायजा लेने के लिए तीन सदस्यीय टीम भेजी। राज्य आपदा न्यूनीकरण केंद्र के अधिशासी निदेशक डॉ. पीयूष रौतेला के नेतृत्व में भेजी गई टीम ने गोमुख ग्लेशियर क्षेत्र के आस-पास क्षेत्र का हवाई सर्वे करने के बाद गुरुवार को प्रदेश सरकार को अंतरिम रिपोर्ट सौंप दी। रिपोर्ट में कहा गया है कि गोमुख ग्लेशियर में कही भी भूस्खलन की वजह से झील नहीं बनी है। गोमुख से गंगोत्री के निचले इलाके तक भारी बर्फ है लेकिन नदी का प्रवाह कहीं नहीं रुका है और बहाव भी सामान्य है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि सेटेलाइट इमेज में नदी शिफ्ट होने और भूस्खलन की जो तस्वीर दिखाई दे रही है, वह मौजूदा समय में भारी बर्फ की वजह से दिखाई नहीं दे रहा है। टीम ने विषम परिस्थिति की वजह से 500 फीट की ऊंचाई से सर्वे किया। रिपोर्ट में आगामी मार्च-अप्रैल में इस क्षेत्र के नए सिरे से सर्वे की जरूरत बताई गई है। टीम ने झील और भूस्खलन की वजह से किसी भी तरह के खतरे की संभावनाओं से भी इनकार किया है। गोमुख क्षेत्र का सर्वे करने गई टीम में वाडिया हिमालय भू विज्ञान संस्थान के वैज्ञानिक डॉ. विक्रम गुप्ता और सिंचाई विभाग के एसएसओ प्लानिंग डीएस कच्छवाहा शामिल थे।

Loading...