पिता ने मां के साथ घर से निकाला, देख नहीं पाता है बेटा

0

जन्म के बाद जब पिता को यह पता चला कि उसका बेटा आंखों से देख नहीं पा रहा है तो उसने अपनी पत्नी और बेटे को घर से ही निकाल दिया। नवजात बेटे को लेकर पीड़िता अपने माता-पिता के घर रहने के लिए मजबूर है।

पति द्वारा बेटे और पत्नी को घर से बाहर निकाल देने की शिकायत जब झल्लार पुलिस से की गई तो टीआई समेत पूरा स्टाफ बेहद भावुक हो गया। टीआई ने आंखों से देख नहीं पा रहे बालक को गोद लेकर उसका उपचार कराने का फैसला कर लिया वहीं पति के खिलाफ प्रकरण दर्ज करने की बजाय उसे समझाइश देकर पत्नी और बेटे को अपने घर ले जाने का प्रयास शुरू कर दिया है।

यह घटना झल्लार थाना इलाके के ग्राम गोरेगांव की है। गांव की 25 वर्षीय पूनम की शादी पांच साल पहले कोंढरगांव के प्रताप के साथ हुई थी। शादी के बाद उसकी एक तीन साल की बेटी है और 6 माह पहले बेटे का जन्म हुआ। बेटा जन्म से देख नहीं पाता है इसे लेकर प्रताप अपनी पत्नी को प्रताड़ित करने लगा। पिछले दिनों प्रताप ने पत्नी को बेटे के साथ घर से बाहर कर दिया। बेटे को लेकर पूनम अपने माता-पिता के घर गोरेगांव आ गई और जैसे-तैसे उसे पाल रही है।

माता-पिता के साथ पूनम जब अपने साथ हुए अन्याय की शिकायत करने के लिए झल्लार थाना पहुंची तो वहां थाना प्रभारी गोविंद सिंह राजपूत उसकी व्यथा सुनकर भावुक हो गए। उन्होंने पूनम और परिजनों की सहमति से 6 माह के बालक को गोद लेकर उसका उपचार कराने का प्रस्ताव रखा। परिजनों ने पुलिस के इस भावुक रूप को देखकर सहर्ष इसकी हामी भर दी। पुलिस थाने के स्टाफ ने भी बालक की आंखों की रोशनी लौटाने के लिए हर संभव मदद करने का भरोसा परिजनों को दिलाया।

पति को समझाइश देगी पुलिस

आंखों से देख न पाने वाले 6 माह के बेटे के साथ उसकी मां को घर से निकाल देने के मामले में पुलिस ने पीड़िता की शिकायत पर कार्रवाई शुरू कर दी है। टीआई श्री राजपूत ने बताया कि पुलिस का प्रयास है कि पति-पत्नी को आपसी समझाइश देकर फिर से एक कर दिया जाए। यदि पति इस पर भी राजी नहीं होता है तो उसके खिलाफ अपराधिक प्रकरण दर्ज किया जाएगा।

आंखों का उपचार कराया जाएगा

झल्लार थाना प्रभारी श्री राजपूत ने बताया कि पूनम आज उनके पास अपने 6 माह के बेटे को लेकर पहुंची थी। बेटा देख नहीं पाता है इस कारण पति ने घर से निकाल दिया है। उन्हें जिला अस्पताल भेजा गया है ताकि आंखों का उपचार कराया जा सके। इसके लिए वे हर संभव मदद करेंगे। पति को भी बुलाकर समझाइश दी जाएगी ताकि परिवार बिखरने से बच सके।

Loading...