मेडिकल कॉलेज अपनी लचर स्वास्थय व्यवस्था के चलते जनता के कठघरे में

0

श्रीनगर: मेडिकल कालेजो की स्थिति ठीक नही चल रही है कभी दून मेडिकल कालेज अपनी लचर स्वास्थय व्यवस्था के चलते जनता के कठघरे मे होता है तो कभी गढवाल क्षेत्रके वीर चन्द्र सिंह मेडिकल कालेज अव्यवस्थाओके चलते खबरो की सुर्खियो मे होता है अब एकबार फिर मेडिकल कालेज श्रीनगर सुर्खियो मे है।किसी भी मेडिकल कालेज की सफलता उसके पोस्टगे्रजुएट सिस्टम से की जाती है जिसकी मान्यता एमसीआई(mci) प्रदान करता है लेकिन एमसीआई ने मेडिकल कालेज श्रीनगर को पीजी की मान्यता देने से साफ इनकार कर दिया है एमसीआई ने चिकित्सा महानिदेशक समेत मेडिकल कालेज को पत्र लिख कर पहले कालेज की व्यवस्थाए सुधारने का अल्टीमेटम दे दिया है जिसके कारण मेडिकल कालेज की 13 से अधिक पीजी कोर्श की मान्यता ही खटाई मे पड़ गई है। इसके पीछे एमसीआई ने काॅलेज की अव्यवस्थाओ को दोषी करार दिया है उनका कहना है की ना तो कालेज के पास डाक्टर है ना ही कोई अन्य स्टाफ प्रचुर मात्रा मे है ना ही काॅलेज के पास बच्चों को रखने के लिए उत्तम दर्जे के हास्टल है साथ ही साथ एक्युपमेन्ट चलाने के लिए भी मेडिकल कालेज तकनीशियनो के अभाव मे है। ये पत्र एमसीआइ ने मेडिकल कालेज के प्राचार्य समेत चिकित्सा शिक्षा को लिखा है वहीं मेडिकल काॅलेज के प्राचार्य ने व्यवस्था को ठीक करने का आश्वसन दिया है साथ ही उन्होने कमीयो को दूर करने के लिए शासन को पत्र भी लिखा है।

Loading...