पंखे से लटकता मिला JNU छात्र का शव

0

दिल्ली: दिल्ली में जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय के एक पीएचडी के छात्र ने खुदकुशी कर ली है। दक्षिणी दिल्ली के मुनिरका में रहने वाले इस छात्र ने अपने कमरे को भीतर से बंद कर लिया और जब कई घंटों तक उसका कमरा नहीं खुला तो दरवाजा तोड़ा गया। कमरे की छत से छात्र की लाश लटकती मिली। पुलिस से पूछताछ में छात्र के दोस्तों ने बताया कि वो कई दिनों से घरेलू वजहों से तनाव में था और शायद इसीलिए उसने आत्महत्या कर ली।

जुलाई 2016 में भी फ़ेसबुक पर कृष ने एक पोस्ट किया था जिसमें उसने जेएनयू पहुंचने की अपनी कहानी लिखते हुए बताया था, कि ये जेएनयू आने का मेरा चौथा साल है. मैंने तीन बार जेएनयू में एमए में दाख़िला लेने के लिए प्रवेश परीक्षा दी. दो बार जेएनयू की एम फिल और पीएचडी की परीक्षा दी. दो बार इंटरव्यू में भी शामिल हुआ..इस पोस्ट में उसने आगे लिखा कि आप जानते हैं…. पहली दो बार मैंने अंग्रेज़ी अच्छे से नहीं जानता था… लेकिन मैंने कोशिश की क्योंकि मैं हौसला नहीं हारना चाहता था. हर साल जेएनयू में प्रवेश पाने के लिए मैंने छोटे-छोटे काम किये, पैसा बचाया, कभी ट्रेन में भोजन नहीं किया. पहली दो बार में तमिलनाडु से आया और अंतिम दो बार हैदराबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी से…कृष ने फेसबुक पोस्ट में लिखा कि हर साल लोग मुझे दुआ देते थे कि इस साल तुम्हारा प्रवेश जेएनयू में हो जाएगा.मैं लगातार कोशिश करता रहा क्योंकि मैंहौसला नहीं हारना चाहता था और मैं हमेशा सोचता था कि मेहनत कभी जाया नहीं जाती है… मैं हर साल नेहरू की मूर्ति के नीचे बैठता था और नेहरू से कहता था कि नेहरू जी मेरे परिवार के सभी लोग कांग्रेस को वोट देते हैं, आप क्यों नहीं चाहते कि मुझे शिक्षा मिले.

  • कृष ने लिखा कि आख़िरी इंटरव्यू के संबंध में बताया कि 11 मिनट बाद एक मैडम ने मुझसे कहा कि मैं सरल भाषा बोल रहा हूं. इस बार के साक्षात्कार में मैं आठ मिनट तक बोला और सभी सवालों के जवाब देने का प्रयास किया. तीन प्रोफ़ेसरों ने मुझसे कहा कि मैंने अच्छे जवाब दिये हैं. मैं सेलम ज़िले से जेएनयू में चयनित होने वाला अकेला छात्र हूं… इस पोस्ट में रजनी ने लिखा, कि ये पल मेरे लिए ऐतिहासिक है. मैं इसपर किताब लिखूंगा- ‘फ्रॉम जंकेट टू जेएनयू’ |
Loading...