मोदी को 2001 में कांग्रेस ने बताया था लाइट वेट, कमजोर, बाहरी, नौसिखिया

0
नरेंद्र मोदी शुरू से ही आरएसएस से जुड़े रहे है, वो बचपन से ही राष्ट्रवाद की ओर आकर्षित थे और इसी कारण उन्होने आरएसएस ज्वाइन किया, मोदी कभी भी विधायक नहीं रहे थे, 2001 में अटल बिहारी वाजपेयी ने दिल्ली में रहने वाले मोदी को गुजरात भेज दिया और वहां का मुख्यमंत्री बना दिया 
उस से पहले मोदी विधायक भी नहीं बने थे, वो हमेशा ही दिल्ली और देश के अन्य हिस्सों में बीजेपी और संघ के कार्यो में लगे रहे थे, जब 2001 में मोदी को गुजरात का मुख्यमंत्री बनाया गया था तब कांग्रेस ने अटल बिहारी वाजपेयी और मोदी का काफी मजाक बनाया था 
कांग्रेस के नेताओं ने मोदी को लाइट वेट बताया था, और ये भी कहा था की बीजेपी ने मोदी जैसे आदमी को मुख्यमंत्री बना दिया जो की बाहरी है, जिसके पास कोई अनुभव नहीं है, मोदी कुछ नहीं कर पायेगा, मोदी एक कमजोर नेता है और जल्द ही भाजपा गुजरात में ख़त्म हो जाएगी 
2001 में जब मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री बने थे तब कांग्रेस के यही सुर थे, उसके बाद से आजतक क्या हुआ ये आप सब भली भाँती जानते है, कांग्रेस को मोदी ने पूरी तरह साफ़ कर दिया, 2019 में तो पहले ही कांग्रेस हार स्वीकार कर चुकी है, उसके कई नेता बोल चुके है की 2019 में कांग्रेस के बूते की बात नहीं है की मोदी  टक्कर भी दे सके, महागठबंधन करना होगा 
वहीँ गुजरात में कांग्रेस ने कई साजिशें की, पर तमाम सर्वे जो अब सामने आ रहे है उनमे भी साफ़ दिखाई दे रहा है की कांग्रेस चाहे समाज में जातिवाद भर कितनी भी साजिशें कर लें, लेकिन मोदी का जलवा बरक़रार है, मोदी के खिलाफ कांग्रेस की हर साजिश फेल हुई है और फेल होती जा रही है 
Loading...