हिमाचल: किन्नौर में बादल फटने से मची भारी तबाही

0
हिमाचल के किन्नौर जिले के वांगतू-काफनू मार्ग पर शेरपा कॉलोनी में बादल फटने से भारी तबाही मची है। शनिवार देर रात 3 घंटे तक लगातार हो रही बारिश से चोटी से भारी मलबा आने से एक दर्जन जगहों से मार्ग बुरी तरह क्षतिग्रस्त हुआ है। भावावैली का संपर्क शेष दुनिया से कट गया है। स्कॉरपिओ गाड़ी और रोड रोलर मलबे में दब गया है। एक दर्जन घोड़े और कई मवेशी लापता हैं। कई क्षेत्रों में मलबा घुस गया है। निर्माणाधीन बिजली स्टेशन को भारी नुकसान हुआ है।
बिजली लाइन टूटने से भावावैली के 14 गांवों में पिछले 20 घंटे से आपूर्ति बाधित है। सड़क के दोनों ओर दर्जनों वाहनों की कतारें लगी हैं। सवारियों से भरी बस को ऐन मौके पर रोक लिया गया। 200 से अधिक यात्रियों ने शेरपा कॉलोनी में टेंट में रात गुजारी। बादल फटने से लोनिवि और एलएंडटी कंपनी को करोड़ों का नुकसान हुआ है। सूचना मिलते ही जिला प्रशासन की टीम मौके पर पहुंच गई है। राहत कार्य जारी हैं।
यांगपा-2 निवासी नरेंद्र, भागसेन और मदन ने बताया कि देर रात बादल फटने से काफनू-वांगतू मार्ग में कई स्थानों पर भारी मलबा आ गया है। उनके एक दर्जन घोड़े लापता हैं। जगह-जगह से सड़क कट गई है। सड़क के कुछ हिस्से नाले में तबदील हो गए हैं। लोक निर्माण विभाग ने मार्ग बहाली के लिए तीन पोकलेन और तीन जेसीबी मशीनें लगा दी हैं, लेकिन नुकसान इतना ज्यादा है कि कई दिनों तक मार्ग बहाल कर पाना संभव नहीं है।
नुकसान का जायजा लेने के लिए राजस्व विभाग की टीम मौके पर पहुंच गई है।  एसडीएम सुरेंद्र मोहन ने बताया कि बादल फटने से हुए नुकसान का आकलन किया जा रहा है। यात्रियों के ठहरने की व्यवस्था जेएसडब्ययू कंपनी की ओर से शेरपा में कैंप लगाकर की गई थी। जल्द ही मार्ग आवाजाही के लिए बहाल कर दिया जाएगा।
Loading...