GST: देश में ‘वन नेशन वन टैक्स’ लागू , विभिन्न टैक्सेज की जगह अब सिर्फ जीएसटी

0

नई दिल्ली: नोटबंदी के बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने जीएसटी के तौर पर सबसे बड़ा राजनीतिक जुआ खेल दिया है,जो की कल अँधेरी रात से पुरे देश में लागू हो गया है . देश की इकॉनमी की तेज रफ्तार से लेकर अगले लोकसभा चुनाव में बीजेपी की उम्मीदें, सब कुछ इसकी कामयाबी पर निर्भर है। अब जब चुनाव होने में 20 महीने से कम का वक्त बचा है, मोदी ने अपने राजनीतिक जीवन का सबसे बड़ा जुआ खेला है। जीएसटी अगर कामयाब हुआ तो एक सर्वमान्य नेता के तौर पर उनकी छवि और ज्यादा मजबूत होगी। अगर जीएसटी के नतीजे सरकार के मनमुताबिक नहीं हुए तो इसकी बड़ी कीमत भी पार्टी और सरकार को चुकानी पड़ सकती है। पीएम ने नोटबंदी के फैसले की तरह इस बार भी जीएसटी की जिम्मेदारी अपने सिर ली है। कामयाबी या असफलता, दोनों का ही सेहरा उनके सिर ही बंधेगा।

सरकार के सबसे सीनियर नौकरशाहों के साथ हाल ही में एक बैठक के दौरान पीएम मोदी ने निर्देश दिए थे कि गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स को कामयाब बनाने के लिए वे हर कोशिश करें। मोदी ने अफसरों से कहा कि वे अपने संबंधित विभागों पर जीएसटी से पड़ने वाले असर का बारीकी से मुआयना करें। मोदी अफसरों से यह जिक्र करना नहीं भूले कि उन्होंने नोटबंदी के मुद्दे को किस तरह ‘अपने कंधों पर’ ढोया है।

Loading...