भूकंप से डोली पहाड़ की धरती, पुलिस-प्रशासन में मचा हड़कंप, भारी नुकसान की संभावना

0

देहरादून। शुक्रवार को 7.2 रिएक्टर स्केल के भूकंप की सूचना से उत्तराखण्ड के पुलिस-प्रशासन में उस समय हड़कंप मच गया जब सुबह करीब आठ बजे नैनीताल, देहरादून, पौड़ी, बागेश्वर, हरिद्वार, चंपावत आदि जनपदों में सायरन बजने ने लगा और प्रशासनिक अमला सड़कों पर उतर गया। करीब आधे घंटे बाद पता चला कि चमोली में 7.2 तीव्रता का भूकंप आया। इससे हर जिले में नुकसान हुआ। बता दें कि यह हकीकत नही बल्कि उत्तराखंड में राज्य आपदा प्रबंधन केंद्र की ओर से भूकंप को लेकर मॉकड्रिल की गई थी।

इस मॉक ड्रिल में कई जगहों पर तालमेल सही रहा तो कहीं तालमेल के कमियां नजर आईं। वहीं इस दौरान पौड़ी में 907, उत्तरकाशी में 374 और हरिद्वार में पांच लोगों की मौत की सूचना पर पुलिस ने शवों का रेस्क्यू और राहत एवं बचाव कार्य का पूर्वाभ्यास किया। इस दौरान हजारों लोग घायल भी हो गए। इसके साथ ही कई घर और सरकारी बिल्डिंग भी जमींदोज हो गई।

पौड़ी, नैनीताल व देहरादून सहित अन्य जनपदों के कलेक्ट्रेट से भूकंप सायरन बजा तो सरकारी मशीनरी एक्टिव हो गई। रोज नौ बजे बजने वाला सायरन आठ बजे बजने लगा तो शहरवासी भी चोंक पड़े और घरों से बाहर आए गये। सायरन बजाती गाड़ियों, अफसरों के वाहन दौड़ते नजर आए तो चिंता फिर बढ़ी कि क्या हुआ। करीब आधा घंटे बाद पता चला कि आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की ओर से भूकंप की मॉकड्रिल की जा रही है।

प्रशासन को सूचना मिली कि राज्य में भूकंप आया गया है। इसका केंद्र बिन्दु चमोली जिले के हेलंग में था और भूकंप की तीव्रता 7.2 तीव्रता थी। भूकंप से चमोली में छह की मौत और 35 लोगों के घायल होने की सूचना मिली। इसके अलावा अन्य जनपदों में भी ऐसी ही सचनाएं आईँ। चमोली से गंभीर घायलों को हेलीकॉप्टर से देहरादून लाया गया।

Loading...