DM मंगेश घिल्डियाल ने बंजर गांव की व्यथा सुनी तो परिवार संग हाल देखने पहुंच गए

0

सालों से बंजर पड़ी रुद्रप्रयाग के बर्सू गांव की जमीन को आबाद करने के लिए यहां विकास की नई संभावनाओं को तलाशा जाएगा। डीएम मंगेश घिल्डियाल ने बर्सू गांव का स्थलीय निरीक्षण करने के बाद यहां की जमीन को बेहद सुंदर बताया और स्वयं भी गांव की बनावट और लोकेशन से प्रभावित हुए। खास बात यह है कि गांव की व्यथा सुनने के बाद डीएम अपने परिवार के साथ  यहां पहुंचे।

सरकार द्वारा पहाड़ से पलायन रोकने और खाली हुए गांवों को फिर से आबाद करने के प्रयासों को मजबूती देने के लिए रुद्रप्रयाग के डीएम ऐसे गांवों का दौरा कर रहे हैं जो खाली है और यहां फिर रौनक लौटाई जा सकती है। मुख्यालय के करीबी गांव बूर्स जो वर्तमान में जनशून्य तो है, किंतु समय-समय पर यहां के लोगों की देव पूजाओं के साथ ही अन्य कार्यों के लिए गांव में आवाजाही होती रहती है। सरकार की मंशा को धरातल पर उतारने के लिए डीएम ने पहली बार बर्सू गांव का निरीक्षण किया।

बताया कि इस गांव को पुर्नजीवित करने के लिए मॉडल के रूप में बनाया जा सकता है। गांव के आसपास सरकारी और आपसी सहयोग से जमीन देने वाले लोगों की राय पर सर्किट हाऊस बनाने की कवायद की जाएगी। पहाड़ में स्वरोजगार की नई संभावनाओं के अनुरूप ही बर्सू गांव के लिए भी योजना बनाने के लिए डीएम ने काफी रुचि दिखाई। उन्होंने गांव में युवाओं की एक टीम को आगे आने को कहा। साथ ही बंजर खेतों में सब्जी उत्पादन, मशरूम उत्पादन, डेयरी पालन के साथ ही कुक्कड़ और बकरी पालन के लिए विशेष काम होंगे।

इच्छुक लोगों को काम के लिए प्रेरित करने के साथ ही सरकार की हर योजना का लाभ देने का प्रयास किया जाएगा। अच्छी नस्ल की गाय, भैस अनुदान पर दी जाएगी। जबकि खाली जमीन पर वन विभाग, उद्यान, कृषि आदि की मदद से आमदनी देने वाले फलदार वृक्ष लगाए जाएंगे। फूल उत्पादन पर भी इस गांव की जमीन बेहतर बताई गई। गांव के चारों ओर करीब 2 से 3 हजार नाली जमीन को कामयाब बनाने के लिए हर संभव प्रयास करने की तैयारी की जाएगी।

राजस्व उप निरीक्षक को दिए सर्वे के निर्देश 

डीएम ने राजस्व उप निरीक्षक को गांव में सरकारी एवं निजी भूमि का सर्वे करने के निर्देश दिए। अपने निरीक्षण के दौरान डीएम ने कहा कि जैसे ही गांव में स्वरोजगार के काम शुरू होंगे उसके बाद गांव को सड़क से जोड़ने के भी प्रयास किए जाएंगे।

संयुक्त टीम करेगी गांव का दौरा 

डीएम मंगेश घिल्डियाल ने बताया कि उद्यान, कृषि, पशुपालन, राजस्व, वन, सिंचाई आदि विभागों की संयुक्त टीम बर्सू गांव का निरीक्षण करेगी। इसके साथ ही गांव के लोगों की इच्छा के मुताबिक उनके साथ बैठक कर इस गांव को दोबारा आबाद करने का प्रयास किया जाएगा।

Loading...