भूकम्प की दृष्टि से अति संवेदनशील स्थानों की लिस्ट में ‘देहरादून’ भी शामिल

0

भारत के 29 शहर जिसमें दिल्ली सहित नौ प्रदेशों की राजधानी भी सम्मिलित हैं भूकम्प की दृष्टि से अति संवेदनशील हैं। राष्ट्रीय भूकम्प विग्यान केन्द्र द्वारा जारी रिपोर्ट में देहरादून भी इस सूची में शामिल है। उत्तराखण्ड ने पिछले कुछ सालों में ही दो बडे भूकम्प का कडवा अनुभव झेला है। सन् १९९१ व १९९९ के भूकम्प में बडी जन व संपत्ति की हानि उत्तराखण्ड ने भोगी है। यह सच है कि उत्तराखण्ड देश का अकेला राज्य जहां आपदा प्रवन्धन मंत्रालय है लेकिन आपदा के समय हाथ पांव का फूलना हमने सन् २०१० की अति वृष्टि और २०१३ की केदारनाथ सहित उत्तराखण्ड के बडे हिस्से में आयी आपदा में देखी जा चुका है। हमारी सरकार और उसका आपदा प्रवन्धन मंत्रालय कितना सतर्क है यह पिछले दिनों रुद्रप्रयाग में आपदा प्रवन्धन अधिकारी पर राहत कार्यों में अनियमितता की जिम्मेदारी के बाद साफ हुआ कि आरोपी अधिकारी को टिहरी से हटाया गया था और नितांत अस्थाई प्रकृति की नियुक्ति के अधिकारी के जिम्मे आपदा प्रवन्धन जैसा जिम्मेदारियों विभाग देना शायद उत्तराखण्ड में ही संभव है। आपदा और भूकम्प के मुहाने पर खडे उत्तराखण्ड के लिए अतिरिक्त सावधानी की जरुरत है लेकिन दुर्भाग्य से हमारे नीति नियंता? कर्ता धर्ता सजग होने के बजाय मूर्छा में आ जाते हैं। ताकत बाहर से उधार से नहीं आती उसे अंदर से पैदा करना होता है। क्या उत्तराखण्ड ये ताकत पैदा करेगा?

Loading...