COVID-19: प्रदेश में कोरोना के 386 मरीज

0

राज्य में गुरुवार को कोरोना के 386 नए मरीज मिले और छह की मौत हो गई। इसके साथ ही राज्य में कुल मरीजों की संख्या 69,693 हो गई है। जबकि अभी मृतकों का आंकड़ा 1133 पहुंच गया है।

स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार गुरुवार को अल्मोड़ा में छह, बागेश्वर में 13, चमोली में 21, चम्पावत में पांच, देहरादून में 137, हरिद्वार में 35, नैनीताल में 53, पौड़ी में 29, पिथौरागढ़ में 37, रुद्रप्रयाग में आठ, टिहरी में 13, यूएस नगर में 25 जबकि उत्तरकाशी जिले में चार मरीजों में कोरोना वायरस की पहचान हुई है।

गुरुवार को राज्य के विभिन्न अस्पतालों से 388 मरीजों को ठीक होने के बाद डिस्चार्ज किया गया। इसके साथ ही ठीक होने वाले कुल मरीजों की संख्या 63,808 हो गई है। जबकि 4133 मरीजों का विभिन्न अस्पतालों में इलाज चल रहा है।

गुरुवार को मिलिट्री हॉस्पिटल पिथौरागढ़ में एक, बेस अस्पताल श्रीनगर में एक, हल्द्वानी मेडिकल कॉलेज में दो और दून मेडिकल कॉलेज में भर्ती दो संक्रमित मरीजों की मौत हो गई। राज्य भर से कुल 13 हजार के करीब सैंपल जांच के लिए भेजे गए।

10 हजार की रिपोर्ट आई जबकि 18 हजार से अधिक सैंपलों की रिपोर्ट आना अभी बाकी है। कंटेनमेंट जोन से पूरी तरह मुक्त हो चुके राज्य में एक बार फिर से कंटेनमेंट जोन बनने शुरू हो गए हैं।

गुरुवार को देहरादून जिले में कुल छह नए कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं। राज्य में कोरोना संक्रमण की दर 5.75 प्रतिशत जबकि रिकवरी रेट 91.56 प्रतिशत पहुंच गया है।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड की राजधानी में दिल्ली समेत बाहरी राज्यों से आने वालों की कोरोना जांच

चिंताजनक: दिवाली की लापरवाही में तीन गुना बढ़ा कोरोना, अस्पताल में दोबारा बढ़ गए मरीज
हल्द्वानी। 
दीपावली के बीच बरती गई लापरवाहियों के कारण एक बार फिर कोरोना मरीजों की तादाद में करीब तीन गुना का इजाफा हुआ है। गुरुवार हल्द्वानी के अस्पताल में भर्ती मरीजों की संख्या 138 तक पहुंच गई।

इसमें 95 एसटीएच और 33 निजी अस्पतालों में भर्ती हैं। दीपावली से पहले अस्पताल में केवल 38 कोरोना मरीज रह गए थे। कोरोना संक्रमितों की मौत का सिलसिला भी लगातार जारी है।

प्रदेश स्तर पर एक बार फिर कोरोना रफ्तार पकड़ता नजर आ रहा है। नैनीताल जिले में भी वायरस का प्रसार बढ़ता नजर आ रहा है। बीते आठ दिनों में तीन सौ से अधिक नए मरीज मिले हैं।

डॉक्टर इस बात से चिंतित हैं कि नए मरीजों में ज्यादातर गंभीर बीमार पड़ रहे हैं, जिन्हें अस्पतालों में भर्ती करवाना पड़ रहा है। यही कारण है कि कोरोना से पहले कोरोना मरीजों से खाली होने की ओर बढ़ रहे अस्पतालों में एक बार फिर मरीजों की संख्या सौ के पार हो चुकी है।

होम आइसोलेशन में भी मरीजों की संख्या 140 से अधिक हो चुकी है। सरकारी क्वारटाइन सेंटर में 57 लोग गुरुवार दोपहर तक रह रहे थे। साफ है दीपावली के दौरान मास्क का प्रयोग न करना और डिस्टेंसिंग का पालन न करने से संक्रमित मरीजों की संख्या में भी इजाफा नजर आ रहा है।

आठ दिन में 15 मरीजों की मौत
कुमाऊं में कोरोना संक्रमित 15 लोगों की मौत बीते आठ दिनों में हो चुकी है। कुछ दिनों पहले तक घट रहे मौत के आंकड़े भी बढ़ने लगे हैं। कोरोना की चपेट में आ रहे बुजुर्ग लोगों में मौत का खतरा तेजी से बढ़ रहा है। प्रदेश की बात करें तो दिवाली के बाद अब तक 65 लोगों की मौत कोरोना से हो चुकी है।

314 सक्रिय मरीज 
कोरोना से ठीक हो रहे मरीजों की रिकवरी दर भी बेहतर नजर आ रही है। अब भी जिले में रिकवरी दर 90 फीसदी से अधिक है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार जिले में गुरुवार दोपहर तक 314 सक्रिय मरीज थे। जिस रफ्तार से मरीज बढ़ रहे हैं, आने वाले दिनों में रिकवरी दर भी कम होने की आशंका है।

कुमाऊं में 981 सक्रिय मरीज 
गुरुवार दोपहर तक कुमाऊं में 981 सक्रिय कोरोना केस थे। इसमें सर्वाधिक नैनीताल और ऊधमसिंह नगर में हैं। यही दोनों जिले कोरोना के लिहाज से सबसे अधिक संवेदनशील भी हैं। पहाड़ों में कोरोना के एक्टिव मामले कम हैं। मगर रोजाना हर जिले में संक्रमितों की संख्या बढ़ती जा रही है।

दीपावली के बाद मरीज एक बार फिर बढ़ रहे हैं। इसमें ज्यादातर भर्ती करने पड़ रहे हैं। अस्पताल में गुरुवार तक 95 मरीज भर्ती हो चुके हैं, एक दिन में ही तीन लोगों की मौत हुई है, इसलिए लोगों को सचेत रहने की जरूरत है।
डॉ. अरुण जोशी, एमएस, एसटीएच हल्द्वानी

Loading...