CM हरीश रावत का चुनावी चक्रव्यूह शुरू

0

हरीश रावत ने उत्तराखंड चुनाव में फतह हासिल करने के लिए अपना चक्रव्यूह रचना शुरू कर दिया है। हपत्रकारों से मुखातिब रावत ने अपना एक नौ सूत्रीय संकल्प पत्र सामने रखा है। साथ ही अपना एक ग्राफिकल चार्ट सामने रखा है जिसमें भाजपा के सभी मुख्यमंत्रियों की घोषणाओं और पूरे हुए कार्य को अपने कार्यकाल के दौरान हुई घोषणा को एक विशलेषण चार्ट के माध्यम से भाजपा को आड़े हाथों लिया है। नौ सूत्रीय संकल्प पत्र में सीएम ने क्या की घोषणा ?

अपने नौ सूत्रीय संकल्प में हरीश रावत ने युवाओं को 25 सौ प्रति माह बेरोज़गारी भत्ता देना का लिया है। आपदा के खिलाफ लड़ाई को प्रत्येक गांव मे पांच आपदा मित्र बनाए बनाने का भी एलान किया है। वहीं 2017 तक हर गांव में बिजली मुहैया कराने का भी वादा किया है। साथ ही महिलाओं के लिए सरकारी नौकरी में 33 फीसद आरक्षण देने की बात कही है। पांच साल में पर्यटकों की संख्या में तीन गुना इजाफा करने का संकल्प लिया है। युवाओं को फ्री स्मार्टफोन देने का भी जिक्र किया है। 2017 तक मलिन बस्तियों के लोगों को मालिकाना हक देना का वादा भी किया है। एससी एसटी और ओबीसी के छात्रों के लिए निशुल्क कोचिंग खोलने की बात भी कही है। साथ ही मार्च के महीने तक पूर्व सैनिकों के लिए एक अलग मंत्रालय बनाया और सैन्य कल्याण अदालतें बनाने की भी का भी वादा किया।
वहीं उन्होंने एक विशलेषण चार्ट भी सामने रखा जिसमें उन्होंने भाजपा के 4 मुख्यमंत्रियों के द्वारा की गई घोषणाएं और घोषणाओं पर किए गए कार्यों का चार्ट सामने रखा है। विशलेषण चार्ट में उन्होंने अपने कार्यकाल के दौरान किए कार्यों पर कहा है उन्होंने 3823 घोषणाएं की हैं जिनमें से 57 फीसद घोषणाओं पर कार्य किया गया है। वहीं कहा कि कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री निशंक के कार्यकाल में 1245 घोषणाओं का जिक्र किया गया है जिसमें 65 फीसद घोषणाएं अपूर्ण बताई गई है।
हालांकि अभी कांग्रेस ने घोषणा पत्र जारी नहीं किया है। बहरहाल बड़ी सवाल है कि क्या सूबे की जनता इन लोक लुभावने फैसलों पर यकीन कर पाएगी यकीन कर पाएगी तो क्या कांग्रेस अपने किए गए वादों पर खरी उतर पाएगी या नहीं।

Loading...