आने वाले 48 घंटे उत्तराखंड के लिए खतरनाक

0
सोमवार को दिन-रात बरस कर राजधानी देहरादून में बाढ़ जैसे हालात पैदा करने वाली बारिश मंगलवार दोपहर बाद फिर शुरू हो गई। लगातार हो रही मूसलाधार बारिश से देहरादून के लोग खौफजदा हैं।
रातभर बारिश के बीच उत्तराखंड के पहाड़ी इलाके चमोली में बादल फटने की घटना और भूकंप के झटके आने से लोगों में दहशत फैल गई। चमोली जिले में सोमवार देर रात से मंगलवार सुबह तक बारिश जारी रही। व‌हीं बीती रात बादल फटने से घाट के धुर्मा कुंडी गांव मे घरों में घुसा मलबा घुस गया। मलबे से कृषि भूमि को भी नुकसान पहुंचा है।

गोपेश्वर के समीप मंडल घाटी में भी भारी बारिश से कृषि भूमि को नुकसान हुआ है। बारिश, भूस्खलन से चमोली जिले में 15 संपर्क मोटर मार्ग बंद पड़े हैं। चमोली जिले में तड़के करीब तीन बजे भूकंप का झटका महसूस किया गया। भूकंप का केंद्र जिले के सलना गांव था। कहीं से नुकसान की सुचना नहीं है। वहीं घाट थराली मोटर मार्ग पर रात भर बारिश होने से भूस्‍खलन हो गया। जिसकी चपेट में एक वाहन आ गया।

रोकी गई केदारनाथ यात्रा

रुद्रप्रयाग में भी मंगलवार सुबह से घने बादल छाए रहे। केदारनाथ में सुबह बारिश हुई जिससे धाम के तापमान में गिरावट दर्ज की गई। केदारनाथ यात्रा फिलहाल रोक ली गई है। प्रशासन की अनुम‌ति के बाद ही यात्रियों को आगे जाने दिया जाएगा। बदरीनाथ हाईवे सुचारू है। बदरीनाथ व हेमकुंड यात्रा जारी है।

बड़कोट में यमुनोत्री राजमार्ग पर यमुना पुल नैनबाग के बीच सोमवार को देर शाम आए मलबे के कारण आवाजाही में परेशानी हो रही थी। मार्ग सुब‌ह साढ़े आठ बजे आवाजाही के लिए खोल दिया गया।

नई टिहरी के टिहरी बांध क्षेत्र के आसपास एक दुग्ध वाहन झील में गिर गया। पुलिस प्रशासन की टीम ने रेस्क्यू किया। झील से एक शव निकाला जा चुका है।

Loading...