शिक्षक की छेड़छाड़ से परेशान, 9वीं की छात्रा ने की ख़ुदकुशी

0

नोएडा में एक 16 साल की लड़की ने मंगलवार को घर में लोहे की रेलिंग से फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। मृतका के पिता ने बेटी की खुदखुशी के बारे में कई खुलासे किए हैं, उन्होंने बताया कि सुसाइड से 20 मिनट पहले बेटी ने..लड़की के पिता ने आरोप लगाया है कि उसके शिक्षक उसको अकेले में उसको गलत तरीके से छूता था। बेटी उनसे अक्सर कहा करती थी कि उसके सर उसको फेल कर देंगे।लड़की के पिता के हिसाब से प्रिंसिपल भी उनकी बेटी से सीधे मूंह बात नहीं करता था। तीन दिन पहले ही बेटी कह रही थी कि पापा मैं साइंस तो निकाल लूंगी लेकिन एसएसटी वाले मुझे जरूर फेल कर देंगे। मंगलवार को सुबह जब वह ऑफिस जा रहे थे तो बेटी का फोन आया। फोट सुसाइड के 20 मिनट पहले ही आया था उसमें बेटे ने कहा कि पापा मेरे लिए कोई कपड़ा ला रहे हो। नोएडा पुलिस ने इस मामले में सही धाराओं को ना जोड़ने के लिए जांच अधिकारी को सस्पेंड कर दिया है। जानकारी के अनुसार जांच अधिकारी ने शुरुआत में इस मामले में छेड़छाड़ की धारा पॉक्सो एक्ट नहीं जोड़ा था। पिछले दिनों हुई परीक्षा के दौरान दो विषय में छात्रा की कंपार्टमेंट आ गई थी जिससे वह काफी परेशान थी। वहीं, पिता का आरोप है कि परीक्षा में कम नंबर आने से शिक्षक भी उसे प्रताड़ित कर रहे थे। पिता का कहना है कि बच्ची ने उन्हें बताया था कि एसएसटी के टीचर उसे गलत तरीके से छूते थे। मैंने उससे कहा चूंकि मैं भी एक टीचर हूं एक टीचर ऐसा नहीं कर सकता, यह उसकी गलतफहमी होगी। लेकिन इकिशा ने कहा कि वह उनसे डरती है और चाहे मैं कितना भी अच्छा कर लूं वो मुझे फेल ही कर देंगे। इससे छात्रा काफी तनाव में थी। परिजनों से ज्यादा बात भी नहीं करती थी और घर से निकलना बंद कर दिया था। तनाव में उनकी बेटी ने आत्महत्या कर ली है। वहीं एसपी सिटी नोएडा अरुण के सिंह ने जानकारी दी है कि बच्ची के पिता ने स्कूल दो टीचरों पर बच्ची को प्रताड़ित करने और जानबूझ कर फेल करने का आरोप लगाया है। पुलिस ने दोनों आरोपी शिक्षकों के खिलाफ आईपीसी की धारा 306 और 506 और पॉक्सो एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया है। आगे की कार्रवाई जारी है। हमारे अधिकारी आज स्कूल का भी दौरा करेंगे। नोएडा में एक 16 साल की लड़की ने मंगलवार को घर में लोहे की रेलिंग से फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। हालांकि पिता ने बेटी की खुदकुशी के लिए उसके टीचर को जिम्मेदार ठहराया है। वहीं नोएडा पुलिस ने इस मामले में सही धाराओं को ना जोड़ने के लिए जांच अधिकारी को सस्पेंड कर दिया है। जानकारी के अनुसार जांच अधिकारी ने शुरुआत में इस मामले में छेड़छाड़ की धारा पॉक्सो एक्ट नहीं जोड़ा था।

Loading...