रामनगर की बुसरा ने कड़ी मेहनत से साकार किया आईएएस बनने का सपना

0

यूपीएससी परीक्षा में 752वीं रैंक प्राप्त करने वाली टिहरी की प्रशिक्षु एसडीएम और रामनगर निवासी बुशरा अंसारी ने अपनी सफलता का राज कड़ी मेहनत और सकारात्मक सोच को बताया है। उन्होंने कहा कि परीक्षा की तैयारी के लिए 12 घंटे की नियमित पढ़ाई जरूरी है। वहीं इंटरव्यू पास करने के लिए सामान्य ज्ञान को मजबूत करना जरूरी है।

रामनगर के तेलीपुरा रोड निवासी एवं वन निगम रामनगर में तैनात डीएमएम अनीस अहमद अंसारी की बेटी बुशरा अंसारी ने शुक्रवार को यूपीएससी की परीक्षा क्वालीफाई की। हिन्दुस्तान से खास बातचीत में बुशरा अंसारी ने बताया कि उन्होंने सिविल सर्विसेस की तैयारी दिल्ली में रहकर की। उन्हें मार्च 2017 में उत्तराखंड की पीसीएस परीक्षा में 10 वीं रैंक मिली थी। तब जाकर उनका चयन नैनीताल एटीसी में प्रशिक्षु एसडीएम के रूप में हुआ था। बताया कि पिछले चार माह से वह टिहरी में प्रशिक्षु एसडीएम के पद पर तैनात हैं। बुशरा ने बताया कि यूपीएससी की तैयारी के लिए उन्होंने नियमित 12 घंटे पढ़ाई की। उन्होंने कहा कि इंटरव्यू के लिए उन्होंने खासकर सामान्य ज्ञान और अपनी अंग्रेजी को मजबूत किया था। बुशरा ने बताया कि उन्होंने हाईस्कूल और इंटर की परीक्षा आर्मी स्कूल हेमपुर डिपो काशीपुर से पास की थी। बताया कि उनकी माता नसरीन रामनगर में ही एक प्राइवेट स्कूल में शिक्षिका है। जबकि छोटा भाई एयरफोर्स में गुवाहाटी फ्लाइंग ऑफिसर के पद पर तैनात है।

बुशरा ने किया परिजनों का सपना पूरा

रामनगर। बुशरा के पिता अनीस अहमद अंसारी ने बताया कि उनकी तमन्ना थी कि उनकी बेटी अधिकारी बने। बताया कि बेटी ने उनके सपने को पूरा करने के लिए दिन रात एक किया है। वहीं बुशरा के यूपीएससी की परीक्षा पास करने से परिवार में खुशी का माहौल है।

Loading...