बारिश व हिमपात न होने से विदेशी परिंदों के प्रवास पर पड़ा असर, आसन नमभूमि में इन प्रजातियों के परिंदे करते हैं प्रवास

इस सीजन में अभी तक बारिश व हिमपात न होने का असर विदेशी परिंदों के प्रवास पर भी पड़ा है। पिछले साल नवंबर के अंत तक करीब 40 प्रजातियों के परिंदे प्रवास पर पहुंच चुके थे, लेकिन मौसम खुष्क होने के चलते वर्तमान में देश के पहले कंजरवेशन रिजर्व व उत्तराखंड के पहले रामसर साइट आसन नमभूमि में मात्र 17 प्रजातियों के परिंदे ही प्रवास पर पहुंचे हैं। वर्तमान में रामसर साइट आसन नमभूमि में रेड कैप्टड आइबीज, गैडवाल, यूरेशियन विजन, टफ्ड डक, रुडी शेलडक, कामन कूट, नार्दन शावलर, कामन पोचार्ड, ग्रे हेरोन, ग्रेट कारमोरेंट, लिटिल ग्रेब, रेड क्रेस्टेड पोचार्ड, फेरीजिनियस डक, नार्दन पिनटेल, मलार्ड, नोब बिल्ड डक, कामन टील के परिंदे उत्तराखंड के मेहमान बने हुए हैं।

मौसम की बेरुखी की वजह से अभी तक न बारिश हुई है और न ही पर्वतीय क्षेत्रों में हिमपात हुआ है। जिस कारण प्रवासी परिंदों के प्रवास पर मौसम का असर पड़ रहा है। प्रजातियों के करीब चार हजार परिंदों के वर्तमान में मौजूद होने के कारण नमभूमि क्षेत्र में कलरव तो बढ़ा है, लेकिन अन्य प्रजातियों के परिंदों के अभी तक प्रवास पर न आने से पक्षी प्रेमी भी मायूस हैं। खास बात यह है कि आसन नमभूमि में प्रवासी परिंदों के आने से जीएमवीएन के आसन रिसोर्ट की आय भी बढ़ती है, क्योंकि रंग बिरंगे पंखों वाले प्रवासी परिंदों विशेषकर सोने से दमखते पंखों वाले सुर्खाब को देखने का आनंद पर्यटक बोटिंग के दौरान उठाते हैं और परिंदों की आकर्षक गतिविधियां कैमरे में कैद करते हैं। आसन रेंजर राजेंद्र सिंह हिंग्वाण व वन दारोगा प्रदीप सक्सेना के अनुसार अभी मौसम खुष्क है। बारिश व पर्वतीय इलाकों में हिमपात होने पर ठंड में इजाफा होने पर परिंदों की प्रजातियों में इजाफा होगा। पिछले साल नवंबर में चकराता क्षेत्र में हिमपात हुआ था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *