बस के नीचे दबे रहें शव, लेकिन ये युवक लेता रहा सेल्फी

0

नई दिल्ली ।। राजस्थान के करौली से बाड़ी जा रही यात्रियों से भरी एक प्राइवेट बस रविवार दोपहर घाटी पर ढलान उतरते वक्त अनियंत्रित होकर पलट गई। बस में सवार लोगों ने बताया कि घटना के बाद बस की स्पीड करीब 90 किमी. रही होगी।

हादसे में बस के पायदान पर खड़े तीनों युवकों की मौत हो गई एवं 20 लोग घायल हो गए। इस दौरान कुछ लोग घायलों की मदद करने के बजाए वीडियो और सेल्फी लेते नजर आए।

तो वहीं DSP अर्जुनसिंह शेखावत ने बताया कि रविवार दोपहर 3.20 के करीब बथुआखोंह घाटी में करौली की ओर से तेज गति में आ रही यात्रियों से भरी बस अनियंत्रित होकर सड़क पर पलट गई।

हादसे में हल्के (40) पुत्र श्रीपति मीणा निवासी भउआपुरा (करौली), विक्रम (23) पुत्र विरजा मीणा निवासी नहर गढ़ (करौली) व शरीफ (35) पुत्र मोहम्मद रसीद निवासी कहार पाडा बाड़ी की मौके पर ही मौत हो गई।

तो वहीं 20 यात्री घायल हो गए। घायलों को ग्रामीणों की सहायता से बस से बाहर निकाला गया तथा 19 घायलों को अस्पताल करौली व एक घायल को सरमथुरा में भर्ती कराया है। डीटीओ सतीश चंद्र ने बताया है कि जांच रिपोर्ट आने पर कार्रवाई होगी।

बस सवार का कहना है कि हादसे के बाद बस में अफरा तफरी मच गई थी। किसी के हाथ तो किसी के पैर में चोट लग गई थी। सभी यात्री एक-दूसरे के ऊपर दबे हुए थे। बस के गेट के तरफ पलटने के कारण निकलने का रास्ता बंद हो गया था।

घटना के बाद ग्रामीणों ने बस के ऊपर से यात्रियों को खींचकर बाहर निकाला। बस के अंदर यात्री एक-दूसरे के ऊपर-नीचे हो रहे थे। पुरुष बस से निकलने का प्रयास कर रहे थे, लेकिन महिलाएं व बच्चे चीख रहे थे।

घायल सवारियों ने बताया कि बस 40 सीटर थी, लेकिन बस परिचालक ने उसमें करीब 60 से अधिक सवारियां भर रखी थीं। मरने वाले तीनों युवक गेट के पास खड़े हुए थे। ऐसे में बस के पलटने से उनकी मौके पर मौत हो गई।

घटना के बाद सवारियों की चीख-पुकार मचने लगी। चीख सुनकर आसपास के लोग मौके पर पहुंचे, लेकिन बस को उठाने में लोग असफल रहे। बस वरौली के मुन्ना नामक युवक की थी।
हल्के मामा व विक्रम ससुराल में न्यौता खाने जबकि राजेश अपने घर आ रहा

Loading...