प्रदेश में सरकार बदलते ही खनन माफियाओं पर सख्ती भले ही शुरू हो गई है, लेकिन धरातल पर इसका असर नहीं दिख रहा है

0

प्रदेश में सरकार बदलते ही खनन माफियाओं पर सख्ती भले ही शुरू हो गई है, लेकिन धरातल इसका असर नहीं दिख रहा है, खनन माफिया अभी भी बैखोफ अपने मसूबों को अंजाम दे रहे है, इसकी बानगी शुक्रवार को रामनगर में देखने को मिली, कोसी नदी में अवैध खनन को रोकने गई रोकने गई वन विभाग की टीम पर खनन माफियों ने हमला  कर दिया, हमलें एक वनकर्मी को डंपर से चढ़ाकर मार डाला,इस मामले को लेकर कांग्रेस ने भी बीजेपी की नई सरकार को घेरना शुरू कर दिया है, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष किशोेर उपाध्याय  ने तो बीजेपी पर यहां तक आरोप लगा दिया दी कि भय भष्ट्राचार के नाम पर लोगों की बहकाने वाली पार्टी के शपथ ग्रहण समारोह के दिन मंच ऐसे भय और भष्ट्राचारियों से भरा पड़ा था, ये उसकी का परिणाम हे की सरकार बनने के तुरंत बाद से ही ऐसे हादसे सामने आ रहे हैं साथ ही उनका कहना हे की सदन में विधानसभा उपाध्यक्ष का पद विपक्ष का होता हे जिसे बीजेपी देने में इनकार कर रही हे  हम उस पद को हासिल करके रहेंगे

इतना ही नहीं कांग्रेस का आरोप है कि ये घटना दर्शती है कि प्रदेश सरकार किस तरह काम करना चाहती है, सरकार को बने एक हफ्ता भी नहीं हुआ कल ही सरकार ने अपने मंत्रियों के विभाग बाटे है और उसी दिन से इस तरफ की घटनाए समाने आने लगी है,इससे पता चलता है कि किस तरह सरकार के मंत्री अवैध खनन माफियाओं को सरक्षण दे रहे है और वहीँ वहीँ भगवानपुर से विद्यायक ममता राकेश को मिले जान से मारने के धमकी भरे पत्र पर किशोर का कहना हे की सरकार इस मामले को गम्भीर नही ले रही हे सरकार को चाहिए की जल्द से जल्द इसकी जाँच करवाये इस मामले पर कांग्रेस ने सरकार को सड़क और संदन दोनों में घेरने के मन बना लिया है, कल कांग्रेस अध्यक्ष किशोर उपाध्या मालमे का सज्ञान लेने रामनगर जाएगे और उन्होंने सरकार इस घटना पर कल चार बजे तक कार्रवाई करने की चेतावनी दी है, यदि तय समय में आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं होती है तो वो इस पर आगे की रणनीति बना कर सरकार के चेताने के काम करेंगे और विधानसभा सत्र में कांग्रेसी विधायक इस मुद्दे को प्रमुखता से उठाएगी

 

Loading...