धमकी के बाद योग शिक्षिका दहशत में, परिजन परेशान

0

डोरंडा की योग शिक्षिका राफिया नाज दहशत में हैं। रांची पुलिस ने भले ही उनके आवास की एहतियातन सुरक्षा बढ़ा दी है, इसके बावजूद पूरे परिवार में दहशत है। दहशत उन कट्टरपंथियों से है, जिन्होंने उन्हें जान से मारने की धमकी दी है। हालांकि, समाज के कई प्रबुद्ध लोग राफिया के समर्थन में भी हैं और शनिवार को भी उससे मिलकर उन्हें सहयोग करने का आश्वासन दिया है।

योग गुरु बाबा रामदेव के साथ तस्वीर वायरल होने के बाद से ही राफिया सुर्खियों में है। तमाम परेशानियों के बावजूद राफिया के हौसले बुलंद हैं। वह कहती हैं कि समाज के कई लोगों का उसे समर्थन है और वह योग सिखाकर गरीब बच्चों का सेवा करना चाहती हैं। कुछ लोग ही हैं, जो उसका विरोध कर रहे हैं। इससे उसके हौसले कम नहीं होने वाले हैं। शनिवार को विभिन्न छात्र संगठनों के प्रतिनिधि राफिया से मिलने पहुंचे।

गौरतलब है कि राफिया के योग सिखाने की वजह से लगातार धमकियां मिल रही थीं, जिसके बाद उनके आवास की सुरक्षा बढ़ा दी गई थी। सुरक्षा के बावजूद कुछ कट्टरपंथियों ने पिछले दिनों उनके आवास पर पत्थरबाजी की थी।

योग गुरु रामदेव के साथ मंच साझा कर कट्टरपंथ का शिकार बन रहीं राफिया ने शनिवार को कहा कि मैंने कुछ भी गलत नहीं किया है। योग सिखाकर मैं गरीब बच्चों और इंसानियत की सेवा ही तो करना चाह रही थी।

लगातार मिल रही धमकियों और शुक्रवार को घर पर हुए पथराव के बाद से राफिया का परिवार दहशत में है। रांची पुलिस ने भले ही उनके आवास की सुरक्षा बढ़ा दी है, इसके बावजूद पूरे परिवार में दहशत है। कट्टरपंथियों ने राफिया को जान से मारने की धमकी दी है।

हालांकि समाज के कई लोग राफिया के समर्थन में आगे आए हैं। शनिवार को छात्रों सहित अनेक लोग उनसे मिलने पहुंचे।

रांची के डोरंडा इलाके की रहने वाली मुस्लिम युवती राफिया को योग से लगाव है और वह योगाभ्यास का प्रशिक्षण भी देती हैं। हालही गुरु रामदेव के साथ मंच साझा करने वाली उनकी एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो गई, जिसकेबाद से ही राफिया को कट्टरपंथियों ने निशाने पर ले रखा है।

तमाम परेशानियों के बावजूद राफिया का जज्बा डिगा नहीं है। वह कहती हैं कि योग सिखाकर वह गरीब बच्चों और मानवता की सेवा ही तो करना चाहती हैं। कुछ लोग ही हैं, जो इसका विरोध कर रहे हैं जबकि समाज के कई लोगों का समर्थन मिल रहा है। वह कहती हैं कि इससे उनके हौसले कम नहीं होने वाले हैं। शनिवार को विभिन्न छात्र संगठनों के प्रतिनिधि राफिया से मिलने पहुंचे। पूर्व उप मुख्यमंत्री सुदेश महतो राफिया से मिलने रविवार को आएंगे।

गौरतलब है कि योग सिखाने की वजह से राफिया को लगातार धमकियां मिल रही थीं, जिसके बाद उनके आवास की सुरक्षा बढ़ा दी गई थी। सुरक्षा के बावजूद कुछ कट्टरपंथियों ने उनके आवास पर पत्थरबाजी की। शुक्रवार को एक निजी चैनल पर प्रसारित एक कार्यक्रम के दौरान जब राफिया अपने घर से लाइव थीं, तभी उनके घर पर पत्थरबाजी की गई और कुछ कट्टरपंथी उसके घर तक पहुंच गए। जिसके बाद सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

राफिया ने अपने फेसबुक पोस्ट पर उन सभी लोगों का धन्यवाद दिया है जिन्होंने उनका साथ दिया। उन्होंने लिखा है कि पुलिस ने उनकी सुरक्षा के लिए सुरक्षाकर्मी मुहैया करवाए हैं, इसके लिए पुलिस प्रशासन का धन्यवाद।

Loading...