चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों का नहीं कटेगा वेतन, आशा-आंगनबाड़ी को मिलेगी सम्मान निधि

0

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने कहा है कि, कोविड फंड के लिए अब चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों और पर्यावरण मित्रों का वेतन नहीं काटा जाएगा।

कोरोना संक्रमण के दौरान घर-घर जाकर पुष्टाहार बांटने, सर्वे करने और स्वास्थ्य निगरानी का काम कर रहीं आशा और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को प्रदेश सरकार एक-एक हजार रुपये सम्मान निधि देगी।

रायपुर स्थित राजीव गांधी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम में गुरुवार को कोविड केयर सेंटर के निरीक्षण के दौरान मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने पत्रकारों से कहा कि, प्रदेश में आशा और आंगनबाड़ी वर्करों की संख्या 50 हजार से अधिक है।

कोरोना संक्रमण के दौरान आशा और आंगनबाड़ी वर्कर लगातार काम कर रही हैं। कोविड फंड में एक दिन का वेतन कटने के मामले में कर्मचारियों के हाईकोर्ट जाने के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में जितने भी चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी हैं, उनके एक दिन के वेतन कटौती के आदेश को वापस लेने का फैसला लिया है।

पर्यावरण मित्र के वेतन कटौती न करने का फैसला बीते बुधवार ले लिया गया है।

Loading...