गबन के आरोपी एबीडीओ को सीजेएम कोर्ट ने भेजा जेल -स्वजल की शौचालय बनाने को दी गई थी पौने तीन लाख की राशि

0

 

 

नई टिहरी: स्वजल परियोजना की ओर से शौचालय निर्माण के लिए दी गई धनराशि को तत्कालीन ग्राम प्रशासक व वर्तमान में एबीडीओ जौनपुर द्वारा गबन किए जान के मामले में सीजेएम कोर्ट ने अभियुक्त का जमानत प्रार्थना पत्र खारिज कर उसे न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया है।
बताते चलें कि वर्ष 2014 में राजस्व थाना चाका के अंतर्गत ग्राम पंचायत लवा में स्वजल परियोजना की ओर से करीब 56 शौचालय निर्माण किए के लिए दी गई धनराशि दो लाख 85 हजार छह सौ रूपए के गबन के आरोप में तत्कालीन ग्राम पंचायत विकास अधिकारी बलवीर लाल, एबीडीओ व प्रशासक सोहन लाल कोहली के विरूद्ध स्वजल परियोजना प्रबंधक सुनील जोशी ने 16 नवंबर 2015 को एफआईआर दर्ज कराई थी। रिपोर्ट में कहा गया कि लवा वीडीओ बलवीर लाल और एबीडीओ सोहन लाल आदि ने कूटरचना के तहत ग्राम निधि लवा से 30 अप्रैल 2014 को दो चेकों से 35 हजार 700 और दो लाख 49 हजार 900 रूपए कुल दो लाख 85 हजार 900 की धनराशि आहरित की और लाभार्थियों को देने की बजाए खुद ही गबन कर ली। पुलिस ने आरोपियों के विरूद्ध न्यायालय में आरोप पत्र पेश कर दिया। जिस पर अभियुक्त सोहन लाल कोहली ने मंगलवार को मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट चंद्रमणी राय की अदालत में आत्म समर्पण एवं जमानत प्रार्थना पत्र पेश किया। कोर्ट ने अभियुक्त को न्यायिक अभिरक्षा में लेकर उसके जमानत प्रार्थना पत्र पर बचाव पक्ष एवं अभियोजन की ओर से सहायक अभियोजन अधिकारी महेंद्र सिंह बिष्ट व नरेंद्र सिंह नेगी की दलीलें सुनने के बाद आदेश में कहा कि अभियुक्त ने लोक सेवक होते हुए सरकारी धन का दुरूपयोग किया है जिस कारण सरकारी योजनाओं के क्रियान्वयन में व्यवधान उत्पन्न हुआ है। कोर्ट ने जमानत प्रार्थना पत्र खारिज कर जेल भेज दिया है।

Loading...