किस्मत की सताई कौशल्या से कुदरत ने छीना सर छिपाने का ठिकाना

0

बारिश के चलते भरभरा कर गिरी मकान की दीवार टिहरी। टिहरी जिले के जाखणीधार ब्लाक में बारिश का कहर लगातार जारी है। बारिश के चलते भरभरा कर गिरी मकान की दीवार। टिहरी जिले के जाखणीधार ब्लाक की पट्टी खास के कुम्हारधार गांव में एक मकान की दीवार भरभरा कर गिर गई। घटना के वक्त कोई भी घर में नहीं था, जिससे कोई बड़ा हादसा नहीं हुआ। दरअसल ग्राम पंचायत कुम्हारधार में गांव की कौश्ल्या देवी के दो कमरों का आवासीय मकान की दीवार बारिश के चलते ध्वस्त हो गई। इस मकान के पीछे की जमीन कुछ दिन पहले से लगातार धंस रही थी। स्थानीय लोगों ने प्रशासन पर आरोप लगाते हुए कहा कि मकान के क्षतिग्रस्त होने की सूचना प्रशासन को आज से करीब चार दिन पहले दे दी गई थी। लेकिन प्रशासन ने पीड़ित परिवार की कोई मदद नहीं की। समाजसेवी जय प्रकाश अमोला ने बताया कि टिहरी के जाखणीधार ब्लाक की पट्टी खास के कुम्हारधार गांव में रहने वाली कौश्ल्या देवी के मकान की दीवार तेज वारिष के कारण हुए भूस्खलन से भराभरा का गिर गई। 

शुक्र है कि उस वक्त घर में कोई नहीं था, रात के जिस पहर यह दीवार गिरी अगर कौश्ल्या देवी घर में होतीतो जान-माल की बड़ी हानि हो सकती थी। उन्होंने बताया कि कौश्ल्या देवी अपने बेटे के केस के सिलसिले में दिल्ली गई थी। घर में रखा सामान दीवार ढहने से दब गया। जय प्रकाश अमोला कहते हैं कि कौश्ल्या देवी बेहद गरीब है पति की मृत्यु के बाद से गुजर बसर लोगों के खेतों पर काम कर और गांव वालों की दया पर चल रहा है। कौश्ल्या के जीवन का सहारा उसका एक मात्र लड़का कुलदीप सेनवाल पिछले एक साल से दिल्ली जेल में बंद है। जय प्रकाश अमोला कहते हैं कि कुलदीप की मां कौश्ल्या कहती है कि बेटे को उसके साथ वालों ने दुराचार के झूठे मामले में फंसाया है। इस बार भी वह अपने बेटे से मिलने दिल्ली जेल में गई थी, इस लिए बड़ा हादसा होने से टल गया। जय प्रकाश अमोला कहते हैं कि मकान की दीवार गिरने के बाद कौश्ल्या के पास सर छिपाने के लिए कुछ नहीं है। ग्रामीण और आसपास के लोग पैसें इक्ठठा कर इस छतिग्रस्त मकान को ठीक करवाने का प्रयास कर रहे हैं। इसके साथ ही सरकारी मद्द के लिए ग्राम प्रधान के स्तर से कार्रवाही की जा रही है। वहीं पर्वतीय क्षेत्रों में रुक-रुक कर बारिश का दौर जारी रहा। मैदानी क्षेत्रों में कहीं बादल छाए रहे और कहीं बौछारें पड़ीं। देहरादून समेत मैदानी क्षेत्रों में जलभराव ने दिक्कतें बढ़ाए रखीं। मौसम विभाग की चेतावनी के मद्देनजर शासन ने सभी जिलाधिकारियों को सतर्क रहने के निर्देश दिए हैं।

 अरूण पांडे

Loading...