उत्तराखंड में बारिश से लौटी ठंड, देहरादून समेत कई स्थानों पर ओले भी गिरे

0

उत्तराखंड में अचानक मौसम का मिजाज बदला है। इससे ठंड लौट आयी है। बारिश, ओलावृष्टि और तेज हवाओं के कारण बुधवार को देहरादून का तापमान 12 डिग्री तक नीचे गिरा। दिन में ही लोग स्वेटर पहने नजर आए। मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार, गुरुवार को देहरादून में मौसम साफ रहेगा। जबकि सीमांत जिलों में हल्की बारिश की संभावना है।

मौसम विज्ञान केंद्र का पूर्वानुमान एक बार फिर सटीक बैठा है। मौसम विभाग ने बुधवार को राजधानी में तेज हवाओं के साथ ही ओलावृष्टि की चेतावनी जारी की गई थी। बुधवार सुबह से ही घने बादल छा गये थे। सुबह सात बजे से बूंदाबांदी होती रही, लेकिन दस बजे बाद शहर के कई इलाकों में तेज बौछारे पड़ी। धीरे-धीरे पूरे शहर में बारिश होने लगी। इस दौरान तेज हवाएं भी चली। दोपहर साढ़े 12 बजे से लगभग 15 मिनट तक ओलावृष्टि ने मौसम को और ठंडा कर दिया। मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया तापमान में अधिकतम 12  डिग्री की गिरावट हुई है। गुरुवार को मौसम साफ रहेगा। पिथौरागढ़, उत्तरकाशी, चमोली में हल्की बारिश होने की संभावना है।

किसानों को बारिश से फायदा, ओलावृष्टि से नुकसान 

बारिश से जहां किसानों को फायदा मिला है, वहीं ओलावृष्टि ने किसानों की मेहनत पर पानी फेर दिया है। विकासनगर और त्यूणी क्षेत्र में भी बारिश के साथ ओलावृष्टि हुई। इससे आम, लीची के बोर और गेहूं की तैयार फसल को नुकसान पहुंचा है। टिहरी के जिला उद्यान अधिकारी डीके तिवारी ने बताया कि इस बार सामान्य से कम बारिश हुई है। ऐसे में इस बारिश से काश्तकार और बागवानों को लाभ मिलेगा। बारिश से मिट्टी में नमी बढ़ने से पौधों को पोषकतत्व अच्छी मात्रा में मिल पाएंगे, लेकिन ओलावृष्टि सेब के बागवानों के लिए अच्छी नहीं है। ओलावृष्टि से सेब की फ्लावरिंग और पत्तियों को नुकसान पहुंचा है। साथ ही खुले में टमाटर और आलू की बुआई करने वाले काश्तकारों के लिए भी ओलावृष्टि अच्छी नहीं है।

केदारनाथ समेत अधिक ऊंचाई वाले इलाकों में गिरी बर्फ 

रुद्रप्रयाग, पौड़ी, श्रीनगर, उत्तरकाशी, टिहरी, चमोली आदि में बुधवार सुबह से मौसम का मिजाज बदल रहा। दोपहर बाद बारिश पड़नी शुरू हो गई। कुछ जगह ओले भी गिरे। जबकि अधिक ऊंचाई वाले इलाकों में दोपहर बाद बर्फबारी हुई है। एकाएक मौसम बदलने से ठंड फिर लौट आयी है। केदारनाथ में मौजूद नेहरू पर्वतारोहण संस्थान के कैप्टन सोबन सिंह ने बताया कि दोपहर 2 बजे बाद बर्फबारी शुरू हुई, जो शाम तक जारी रही। उधर, उत्तरकाशी जिले के गंगोत्री और यमुनोत्री समेत तमाम ऊंचाई वाले क्षेत्रों में हल्की बर्फबारी हुई। पूरे जिले में बारिश हुई। बारिश के कारण एक बार फिर से ठंड लौट आई है। बुधवार देर शाम तक भी बारिश का सिलसिला जारी रहा।

मैदानी इलाकों में बारिश ने गर्मी से दिलाई राहत

देहरादून, हरिद्वार और रुड़की समेत उत्तराखंड के मैदानी इलाकों में बारिश ने गर्मी से राहत दिलाई है। रुड़की में तेज हवाओं के साथ बारिश होने से तापमान गिर गया। दिनभर घने बादल छाए रहे। पिछले कुछ दिनों से रुड़की में अधिकतम तापमान 30 डिग्री सेल्सियस के ऊपर बना हुआ था। बारिश होने से अधिकतम तापमान 25 डिग्री तक आया है। बारिश के कारण सुहावने मौसम का लोगों ने लुत्फ उठाया। ऋषिकेश में आसमान में काले बादल छाए रहे। दोपहर करीब 12 बजे झमाझम बारिश हुई। अचानक हुई बारिश से क्षेत्र में ठंड वापस लौट आई। लोग फिर से गर्म कपड़ों में दिखाई दिए। हरिद्वार और देहात क्षेत्रों में भी हल्की बारिश हुई। शिवालिक नगर, सिडकुल और पथरी क्षेत्र में ओलावृष्टि होने से गेहूं की फसल को नुकसान पहुंचा है। गेहूं की बलियों में दाने पड़ चुके हैं, लेकिन ओलावृष्टि ने किसानों की नींद उड़ा दी है। हालांकि, बारिश के कारण तापमान में गिरावट आने से लोगों को गर्मी से राहत मिल गई है।

Loading...