उत्तराखंड: पौड़ी जिले का यह गांव भी बना घोस्ट विलेज

0

पौड़ी : उत्तराखंड में पलायन के चलते मानवविहीन हो रहे गांवों की फेहरिस्त में एक गांव और जुड़ गया। पौड़ी जिले के कल्जीखाल विकासखंड के बलूनी गांव में बीते एक दशक से अकेले रह रहे 66 वर्षीय पूर्व सैनिक श्यामा प्रसाद ने भी आखिरकार गांव छोड़ दिया। अब इस गांव में कोई नहीं रहता। ग्राम पंचायत सैनार के इस गांव में डेढ़ दशक पूर्व तक 45 परिवार निवास करते थे। लेकिन शिक्षा और स्वास्थ्य जैसी मूलभूत सुविधाओं के अभाव में धीरे-धीरे सभी लोग शहरों को पलायन कर गए। खेती के लालच में श्यामा प्रसाद अकेले ही गांव में रह रहे थे। लेकिन स्वास्थ्य खराब रहने के कारण आखिरकार उन्होंने भी गांव से रुखसत ले ली। यह गांव पेयजल संकट से भी लगातार जूझ रहा था। बलूनी गांव की यह तस्वीर उत्तराखंड के हजारों गांवों का दर्द बयां करती है। इस गांव के बाशिंदों को इलाज के लिए दस किमी दूर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र घंडियाल जाना पड़ता था। जहां जाने के लिए कोई सड़क नहीं थी। प्राथमिक शिक्षा के लिए बच्चों को घने जंगल से होते हुए करीब एक किमी दूर सैनार जाना पड़ता था, जबकि इंटर कॉलेज गांव से करीब आठ किमी दूर पुरियाडांग में है। पलायन के संबंध में पौड़ी के जिलाधिकारी सुशील कुमार का कहना है कि अन्य जिलों की अपेक्षा पौड़ी से पलायन अधिक हुआ है। पलायन के कारणों की पड़ताल करने और इसे रोकने के उपाय सुझाने को पलायन आयोग का गठन किया गया है।

Loading...