इस भारतवंशी के क्या कहने, 60 बार बन चुके हैं कार्यवाहक राष्ट्रपति

    0

    इस भारत वंशी को सलाम। वयोवृद्ध भारतीय मूल के रिटायर्ड नौकरशाह के नाम एक नया कीर्तिमान बन चुका है। शुक्रवार को एक बार फिर भारतीय मूल के जे. वाई. पिल्लै को सिंगापुर का कार्यवाहक राष्ट्रपति नियुक्त किया गया। पिल्लै को इस माह के अंत में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव तक इस पद को संभालने का जिम्मा दिया गया है। रिटायर्ड नौकरशाह पिल्लै 83 वर्ष के हैं। गुरुवार को सिंगापुर के राष्ट्रपति टोनी टैन केंग यैम का छह वर्ष का कार्यकाल समाप्त हो गया। पिल्लै काउंसिल फॉर प्रेजिडेंशियल एडवाइजर्स के चैयरमैन हैं।

    पिल्लै के लिए कार्यवाहक राष्ट्रपति की भूमिका निभाना कोई नया काम नहीं है। वह करीब 60 बार सिंगापुर के कार्यवाहक राष्ट्रपति का प्रभार संभाल चुके हैं। सिंगापुर के नियम के मुताबिक जब कभी भी राष्ट्रपति विदेश दौरे पर जाते हैं तो सीपीए का चैयरमैन कार्यवाहक राष्ट्रपति बन कर सिंगापुर का संचालन करता है। इस बार हो सकता है वह अपना वर्ष 2007 का 16 दिन के कार्यवाहक राष्ट्रपति पद के कार्यकाल का रिकॉर्ड तोड़ दें क्योंकि अगला चुनाव 23 सितंबर को होना है और नोमिनेशन की तारीख 13 सितंबर है। अगर 23 तारीख को चुनाव हुआ तो रिकॉर्ड बनेगा और 13 सितंबर को कोई निर्विरोध चुना गया तो रिकॉर्ड टूटने से रह जाएगा।

    Loading...