शीतकाल के लिए बंद हुए बदरीनाथ धाम के कपाट

0

आज विधिविधान के साथ मंत्रोच्चारण के बीच बदरीनाथ धाम के कपाट शीतकाल के लिए बंद कर दिए गए।आज प्रात:कालीन चार बजे अभिषेक पूजा की गई। दोपहर डेढ़ बजे सायंकालीन पूजा हुई। इसके बाद अपराह्न तीन बजे से कपाट बंद होने की प्रक्रिया शुरू हो गईं।इस दौरान भक्त भगवान बदरीविशाल के कपाट श्रद्धालुओं के लिए खुले रहे। शाम पांच बजकर 13 मिनट पर धाम के कपाट बंद कर दिए गए।आज कपाट बंद होने से पहले माता लक्ष्मी को भगवान बदरीनाथ के मंदिर में विराजमान किया गया। मंदिर को गेंदे के फूलों से सजाया गया है।

कपाट बंद होने के दौरान शामिल धाम में सैकड़ों श्रद्धालु मौजूद रहे और इस पवित्र पल के साक्षी बने और जय बदरीश के नारों से धाम गुंजायमान हो उठा।

Loading...