देहरादून में भारी पुलिस फोर्स तैनात, खुफिया एजेंसी भी सक्रिय

0

देहरादून को 11 जोन और 25 सेक्टर में बांटा गया है। राजधानी में 04 एसपी, 09 सीओ, 25 इंस्पेक्टर/एसओ, 180 दरोगा, 300 हेड कांस्टेबल, 700 कांस्टेबल और 200 महिला कांस्टेबल और छह कंपनी पीएसी सशस्त्र तैनात की गई है। खुफिया एजेंसियां भी सक्रिय हैं।

देहरादून डीएम सी रविशंकर और एसएसपी ने बताया कि अभी जिले में इंटरनेट चल रहा है। लेकिन अगर सोशल मीडिया पर बेवजह पोस्ट, तस्वीरें, भड़काऊ बयान वायरल किए गए तो जिले में इंटरनेट बंद किया जा सकता है। ऐसी पोस्ट करने वालों के खिलाफ आईटी के साथ क्रिमिनल एक्ट में भी मुकदमा दर्ज किया जाएगा। उन्होंने ऐसा न करने की अपील की है।

महंत नरेंद्र गिरी महाराज की अपील

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी महाराज ने सभी भारतवासियों से अपील की। उन्होंने कहा कि आज वह घड़ी आ गई है, जिसमें एकता और अखंडता का परिचय देना होगा।

अयोध्या मामले में आने वाला सुप्रीम कोर्ट का फैसला न हिंदुओं के पक्ष में है और न मुसलमान के पक्ष में है। यह फैसला पूरे भारतवासियों के पक्ष में आएगा। हम सभी सनातन धर्म प्रेमियों से निवेदन करते हैं कि जबतक फैसला नहीं आता है तब तक अपने घर में बैठकर हनुमान चालिसा और सुंदरकांड का पाठ करें।

जैसे हनुमान के द्वारा भगवान राम के सारे काम हुए हैं। यह कार्य भी हनुमान द्वारा किया जाएगा। कहा कि मुझे संविधान और न्यायपालिका पर पूरा भरोसा है। मुझे पूरी उम्मीद है कि यह फैसला रामजन्म भूमि के पक्ष में आएगा। सभी से अपील है कि फैसला आने के बाद सभी लोग भाईचारा कायम करें।

एलआईयू को संदिग्ध गतिविधियों पर नजर बनाए रखने को कहा

डीएम सी. रविशंकर ने देर रात शनिवार को जिले के संवेदनशील, अति संवेदनशील और मिश्रित आबादी वाले क्षेत्रों में धारा 144 लागू करने के निर्देश दिए हैं। उधमसिंह नगर के डीएम डॉ. नीरज खैरवाल ने भी देर रात जिले में धारा 144 लागू करने के निर्देश जारी किये हैं।

एलआईयू को भी संदिग्ध गतिविधियों पर पैनी नजर बनाए रखने को कहा गया है। पुलिस को सख्त निर्देश दिए गए हैं कि कोई भी व्यक्ति किसी भी तरह सामाजिक सौहार्द को खराब करने और किसी समुदाय विशेष या व्यक्ति को भड़काने की कोशिश करें तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई अमल में लाएं।

आज अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट फैसला सुनाने वाला है। इस बात के सुनिश्चित होते ही उत्तराखंड प्रशासन और पुलिस अलर्ट मोड में है। मामले की संवेदनशीलता को लेकर राज्य के संवेदनशील क्षेत्रों में धारा 144 लागू कर दी गई है।

वहीं इन क्षेत्रों में स्कूल-कॉलेज बंद कर दिए गए हैं। साथ ही अतिरिक्त पुलिस बल भी तैनात किया गया है। कोटद्वार में भी धारा 144 लागू कर दी गई है। यहां सभी सरकारी और गैर सरकारी स्कूल-कॉलेज बंद करने के आदेश दिए गए हैं। चमोली और बड़कोट में सुबह स्कूल खुले थे, जिसके बाद बंद कर दिए गए। श्रीनगर में स्कूल जा रहे बच्चों को वापस घर भेज दिया गया है। हरिद्वारा जिले में भी धारा 144 लागू है। यहां सभी स्कूल-कॉलेज बंद किए गए हैं। रुद्रप्रयाग में भी स्कूल बंद हैं।

Loading...