कंगसाली मैक्स दुर्घटना के पीड़ितों से मिलने पहुंचे सीएम

0

नई टिहरी: मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत कंगसाली पहुंचे और मैक्स दुर्घटना में मृत स्कूली बच्चों के परिजनों के आंसू पोंछे। मृत बच्चों की आत्मा की शांति के लिए दो मिनट का मौन भी रखा गया। इस दौरान, मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रतापनगर के लिए राज्य सरकार की ओर से एक और एंबुलेंस बोट की व्यवस्था की जाएगी। उन्होंने कहा कि दुर्घटना की जांच चल रही है और इसमें जो भी दोष पाया जाएगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। बता दें कि मैक्स दुर्घटना में एंजल इंटरनेशनल स्कूल के दस बच्चों की मौत हो गई थी, जबकि दस अन्य घायल हो गए थे।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मृत बच्चों के परिजनों को सांत्वना देते हुए कहा कि राज्य सरकार ने घायल बच्चों का बेहतर उपचार किया जा रहा है। क्षेत्र में बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं की मांग पर मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश की स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर किए जाने के लिए राज्य सरकार लगातार प्रयासरत है। प्रदेश में बांड पर तैयार किए गए डॉक्टर, जो बांड तोड़कर चले गए, उन्हें वापस लाने के लिए प्रदेश सरकार ने हाईकोर्ट में मुकदमा लड़ा है तथा जीत भी हासिल हुई है। प्रदेश को शीघ्र ही 600 डॉक्टर मिलने की संभावना है।

सीएम ने ये भी कहा कि टिहरी बांध से सर्वाधिक प्रभावित प्रतापनगर की जनता हुई है, इसे ध्यान में रखते हुए डोबरा चांटी पुल निर्माण के लिए सरकार ने एकमुश्त 88 करोड़ रुपये दिए। उम्मीद है कि आगामी माह फरवरी तक डोबरा चांटी पुल जनता को समर्पित कर दिया जाएगा। मुख्यमंत्री ने मृत बच्चों के परिजनों को आश्वास्त किया कि दुर्घटना की जांच चल रही है इसमें जो भी दोषी पाया जाएगा, उनके विरूद्ध नियमानुसार कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार से प्रदेश के प्रत्येक विकासखंड में एक केंद्रीय विद्यालय खोलने की मांग की गई है।

वाहन दुर्घटना में मृत बच्चों के परिजनों को जिला प्रशासन ने एक-एक लाख की धनराशि तथा वाहन दुर्घटना के घायलों को प्रति घायल रुपये दस हजार की धनराशि पूर्व में ही वितरित की जा चुकी है। मुख्यमंत्री ने मृत बच्चों के परिजनों को एक लाख रुपये एवं पचास हजार प्रति घायल वितरित किए जाने के लिए चेक जिलाधिकारी को उपलब्ध कराए हैं। इस अवसर पर विधायक प्रतापनगर विजय ङ्क्षसह पंवार, जिलाधिकारी डॉ. वी. षणमुगम, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ. योगेंद्र सिंह रावत, मुख्य विकास अधिकारी आशीष भटगांई, मुख्य चिकित्साधिकारी भागीरथी जंगपांगी, उप जिलाधिकारी प्रतापनगर अजयबीर सिंह, भाजपा जिलाध्यक्ष संजय नेगी आदि मौजूद थे।

थार्ती गांव के पीड़ित परिवार से मिले सीएम, मदद का दिया आश्वासन

भिलंगना क्षेत्र के आपदा प्रभावित गांव थार्ती का भ्रमण कर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पीड़ित परिवार को हरसंभव मदद का भरोसा दिया। मौके पर ही अधिकारियों को घाटी में पैदल पुल टूट जाने के कारण अलग-थलग पड़े गांव के आवागमन के लिए वैकल्पिक पुलिया निर्माण के निर्देश दिए। साथ ही आपदा के करण हुए नुकसान की रिपोर्ट एक सप्ताह के अंदर उपलब्ध करवाने के निर्देश दिए। भिलंगना प्रखंड में पट्टी नैलचामी के ग्राम थार्ती में बीते गुरुवार की मध्य रात्रि को बादल फटने की घटना से एक मकान ध्वस्त हो जाने से मां और बेटा की घर के अंदर मलबे में दबकर मौत हो गई थी।

साथ ही क्षेत्र की सैकड़ों नाली कृषि भूमि, 15 से अधिक पेयजल लाइन, विद्युत लाइनें, सिंचाई गूल आदि क्षतिग्रस्त हो गई थी रविवार को क्षेत्र में हुए नुकसान का जायजा लेने पहुंचे मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने थर्ती गांव के आपदा पीड़ित शंकर सिंह के परिवार से मुलाकात कर उन्हें सांत्वना दी और सरकार और प्रशासन से हरसंभव मदद का भरोसा दिलाया। सीएम ने मौके पर मौजूद अधिकारों को निर्देशित दिए कि क्षेत्र में पुलियों की वैकल्पिक व्यवस्था की जाय। साथ ही नैलचामी नदी में आई बाढ़ के कारण हुये नुकसान का आंकलन कर एक सप्ताह के भीतर आगणन तैयार कर जिला प्रशासन और शासन में भेजने को कहा है जिससे लोगों की समय पर मदद की जा सके।

इस मौके पर क्षेत्रीय विधायक शक्ति लाल शाह ने ऊर्जा निगम को आपदा प्रभावित क्षेत्र में चौबीस घंटे विद्युत आपूर्ति सुचारू रखने के निर्देश दिए। इस मौके पर भागीरथी प्राधिकरण के उपाध्यक्ष अब्बल सिंह बिष्ट, एसडीएम पीआर चौहान, तहसीलदार बुद्धि मिस्त्री, घनासली नगर पंचायत अध्यक्ष शंकर पाल सजवाण, आनंद बिष्ट, नत्थी सिंह नेगी, राम कुमार कठैत, कपिल बडोनी, प्रमोद बिष्ट, हिम्मत सिंह राणा आदि मौजूद थे।

Loading...